इंदौर

मध्य प्रदेश से उत्तराखंड के ऋषिकेश पहुंची ट्रेन में सफाई के दौरान एक प्लास्टिक के बोरे को खोलते ही सफाई कर्मियों के होश उड़ गए। बोरे के अंदर से महिला के कटे हाथ और पैर मिलने के बाद हर कोई दंग रह गया । रेलवे यार्ड के वाशिंग लाइन में सफाई कर्मचारियों ने इसकी सूचना जीआरपी को दी।

महिला के शरीर के बाकी हिस्से मध्य प्रदेश के इंदौर में मिले हैं। प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आई है कि महिला का मर्डर कर शव के टुकड़ों को ट्रेन में भेज दिया गया है। पुलिस अब इस मामले में हर एंगल से जांच कर रही है।

योगनगरी ऋषिकेश रेलवे स्टेशन पर सोमवार को उज्जैन एक्सप्रेस की बोगी में एक बोरे में महिला के कटे हुए हाथ-पैर मिलने से सनसनी फैल गई। जीआरपी ने महिला के दो हाथ और पैर कब्जे में लिए। फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट की टीम ने मौके से नमूने लिए हैं।

जीआरपी ऋषिकेश के मुताबिक, बीते रविवार देर शाम सात बजे के लगभग इंदौर से चलकर उज्जैन एक्सप्रेस योगनगरी ऋषिकेश पहुंची। यहां यात्रियों को उतारने के बाद ट्रेन को स्टेशन के वॉशिंग यार्ड में शिफ्ट किया गया।

सोमवार दोपहर को वॉशिंग लाइन नंबर नौ पर ट्रेन की एस-1 और एस-2 कोच के बीच टॉयलेट के पास सफाई कर्मचारियों को एक प्लास्टिक का बोरा पड़ा हुआ मिला था। बोरे से अत्याधिक बदबू आ रही थी। सफाई कर्मियों ने इसकी सूचना फोरन आरपीएफ और जीआरपी को दी।

इसके बाद जीआरपी की टीम मौके पर पहुंची। बोरे को खोलने पर पुलिसकर्मियों के भी होश उड़ गए। बोरे के अंदर एक महिला के कटे हुए दो हाथ और पैर थे। हाथ में चूड़ियां थीं। इससे पता चला कि यह महिला के हैं।

देहरादून से पहुंची फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट की टीम ने मौके से आवश्यक नमूने लिए। हाथ-पैर से नमूने लेकर उसका डीएनए भी सुरक्षित रखा गया। जीआरपी के चौकी प्रभारी आनंद गिरि ने बताया कि ऋषिकेश और आसपास के स्टेशनों के सीसीटीवी कैमरों की जांच में कोई सफलता नहीं मिली है।

पुलिस ने हाथ-पैर को कब्जे में लेकर उन्हें पंचनामा भरकर पहचान होने तक एम्स की मोर्चरी में रखवाया गया है। मामले का खुलासा करने के लिए पुलिस की कई टीमें भी बनाई गई है। पुलिस इस मामले में हर एंगल से जांच करने में जुटी हुई है।

महिला के शरीर का बाकी हिस्सा इंदौर से बरामद
जीआरपी थाने के एसएचओ त्रिवेंद्र राणा के अनुसार, नौ जून को इंदौर रेलवे स्टेशन पर यार्ड में खड़ी एक पैसेंजर ट्रेन में एक महिला का दो टुकड़ों में शव मिला था। महिला के सिर से कमर तक का शरीर का हिस्सा ट्रेन में रखे ट्रॉली बैग और कमर से नीचे का हिस्सा एक बोरे में मिला था।

ममहिला के शव से हाथ और पैर गायब थे। महिला की उम्र लगभग 25 वर्ष आंकी गई। प्रथमदृष्या ऋषिकेश में महिला के जो हाथ और पैर मिले हैं, वो इंदौर में मिले महिला के शव के बाकी हिस्से हैं। तस्वीरों से मिलान किया गया है।