इस्लामाबाद
पाकिस्तान ने हाल ही में विभिन्न देशों में पाकिस्तानी राजनयिक मिशनों के हैंडल सहित अपने कई आधिकारिक ट्विटर अकाउंट को भारत द्वारा ब्लाक किए जाने के खिलाफ कड़ा विरोध दर्ज कराया है। विदेश कार्यालय ने शनिवार को भारतीय कार्रवाई को अंतरराष्ट्रीय दायित्वों और मानदंडों के खिलाफ बताते हुए इस्लामाबाद में भारतीय राजनयिक को तलब किया। विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा, 'इस्लामाबाद में भारतीय प्रभारी (राजनयिक मामले) को अवगत कराया गया कि ये भारतीय कार्रवाइयां अंतरराष्ट्रीय मानकों, दायित्वों, मानदंडों और सूचना के प्रवाह के ढांचे के खिलाफ है और भारत में बहुलवादी आवाजों और मौलिक स्वतंत्रता पर अंकुश लगाने के लिए सिकुड़ती जगह की खतरनाक गति को दर्शाती हैं।'

'अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को अवरुद्ध करने का प्रयास'
पाकिस्तान ने कहा कि विदेश में राजनयिक मिशनों के ट्विटर खातों को ब्लाक करना पाकिस्तान के सूचना तक पहुंच के अधिकार और 'अभिव्यक्ति की मौलिक स्वतंत्रता' को अवरुद्ध करने का एक स्पष्ट और जानबूझकर किया गया प्रयास है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के मुताबिक, 'राजनयिक खातों के संबंध में इंटरनेट क्षेत्र को विनियमित करने के लिए भारत सरकार द्वारा नियोजित नई अवैध प्रथा, असहमति को दबाने के स्पष्ट इरादे से पूरी तरह से सूचना तक पहुंच और राय या अभिव्यक्ति की मौलिक स्वतंत्रता के अधिकार के खिलाफ है।'

पाकिस्तान ने ट्विटर के सामने मामले को उठाया
दरअसल, भारत ने महत्वपूर्ण देशों में पाकिस्तान के राजनयिक मिशनों के 80 आधिकारिक ट्विटर खातों को ब्लाक कर दिया था। पाकिस्तान ने माइक्रो-ब्लागिंग साइट के साथ इस मामले को उठाया और भारत द्वारा प्रतिबंधित किए गए हैंडल को तत्काल बहाल करने को कहा।
पाकिस्तान ने कहा कि भारत में आवाजों की बहुलता और सूचना तक पहुंच के लिए जगह कम करना बेहद खतरनाक है।
सोशल मीडिया प्लेटफार्म को लागू अंतरराष्ट्रीय मानदंडों का पालन करना चाहिए।
हम ट्विटर से अपने खातों तक तत्काल पहुंच बहाल करने, भाषण और अभिव्यक्ति की लोकतांत्रिक स्वतंत्रता का पालन सुनिश्चित करने का आग्रह कर रहे हैं।

भारत पर लगाया आरोप
पाकिस्तान ने भारत पर वरिष्ठ पत्रकारों और विशेषज्ञों के खातों को अवरुद्ध करने का भी आरोप लगाया, जिन्होंने केंद्र सरकार की आलोचना की है और इसकी नीतियों पर सवाल उठाया है।

पाक विदेश मंत्रालय ने भारत सरकार से किया आग्रह
पाक विदेश मंत्रालय के कार्यालय ने कहा कि भारत सरकार से भारत में पाकिस्तान के राजनयिक मिशनों के ट्विटर खातों को ब्लाक करने से संबंधित अपने कार्यों को तुरंत उलटने का आग्रह किया गया है। भारत को संयुक्त राष्ट्र द्वारा समर्थित स्थापित अंतरराष्ट्रीय मानदंडों और मानकों का भी पालन करना चाहिए और मौलिक स्वतंत्रता और असहमति के सम्मान की सुरक्षा भी सुनिश्चित करनी चाहिए।