भोपाल
बैतूल, हरदा और नर्मदापुरम में भारी बारिश के चलते रेलवे टैÑक पर पानी आ गया है। इस कारण टेÑन भोपाल नागपुर ट्रैक पर टेÑनों का आवागमन बाधित हुआ है। इसके अलावा छह घंटे से सड़क मार्ग भी बाधित है। बारिश के कारण प्रशासन को तवा डैम के 9 गेट खोलने पड़े। 9 गेट से 3949 क्यूमेक्स पानी छोड़ा जा रहा है।  इटारसी से नागपुर रेल रूट पर कीरतगढ़-ताकू के बीच ट्रैक पर पानी आ गया। गाड़ी संख्या 20806 नई दिल्ली-विशाखापत्तनम एक्सप्रेस और 12616 नई दिल्ली-चेन्नई जीटी एक्सप्रेस को इटारसी स्टेशन से डायवर्ट रूट वाया खंडवा-बडनेरा-वर्धा-बल्लारशाह होकर चलाया जा रहा है।

इटारसी में देर रात से हो रही बारिश की वजह से न्यू यार्ड डबल स्टोरी के पीछे वैशाली नगर में लोगों के घरों में पानी घुस गया। इंदिरा नगर, पुरानी इटारसी देवल मंदिर के पास 4 से 5 फीट तक जल जमाव हो गया। उधर तवा डैम परियोजना के अधिकारी आरके श्रीवास्तव ने बताया कि डैम का गवर्निंग लेवल 1158 तक है। इस बार दो महीने पहले ही गेट खोल दिए गए हैं। बांध का अधिकतम लेवल 1166 फीट है। 31 जुलाई तक 1158 फीट जलस्तर रखा जाता है। डैम के गेट खोले जाने से नर्मदा नदी का जलस्तर बढ़ेगा। निचली बस्तियों में रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए कहा गया है।

इन जिलों में बढेÞगी परेशानी: तवा डैम का पानी नर्मदा नदी में जाता है। यहां हाई अलर्ट किया गया है। तवा से छोड़ा गया पानी इंदिरा सागर डैम को भरता है।
इसकी वजह से होशंगाबाद, धार, अलीराजपुर, हरदा, देवास, सीहोर, रायसेन और खंडवा जिले में नर्मदा किनारे रह रहे लोगों को अलर्ट किया गया है। मरोड़ा, सोनतलाई, मेहराघाट, सांगाखेड़ा कला, बांद्राभान, रायपुर गांव तवा नदी से लगे हुए हैं। नर्मदापुरम, बांद्राभान, आंवली घाट, तालनगरी, बाबरी घाट पर नर्मदा का जलस्तर बढ़ेगा।