नई दिल्ली
 
जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे की हत्या के बाद भारत में भी सुरक्षा एजेंसियों को सतर्क कर दिया गया। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों की पुलिस और सेंट्रल फोर्स को पब्लिक इवेंट में VVIPs की सिक्योरिटी सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। साथ ही नजदीक से होने वालों हमलों से बचाव पर फोकस करने के लिए कहा गया। मामले के जानकार अधिकारियों ने बताया कि आबे हत्याकांड के कुछ घंटे बाद ही भारत सरकार ने गृह मंत्रालय के सीनियर ऑफिसर्स, सेंट्रल इंटेलीजेंस और सिक्योरिटी फोर्स के बीच बैठक बुलाई। इस दौरान VVIP की सुरक्षा में संभावित कमियों पर चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि केंद्र ने बाद में विज्ञप्ति जारी करके सभी वीआईपी सुरक्षा यूनिट्स, राज्य सरकारों और पुलिस बलों को सतर्क रहने का निर्देश दिया।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) और राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में पुलिस वीवीआईपी सुरक्षा में लगी हुई है। एलीट स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (SPG) प्रधानमंत्री की सुरक्षा करता है।

'रीयर साइड प्रोटेक्शन' पर ध्यान देने का निर्देश
8 जुलाई की विज्ञप्ति को लेकर एक अधिकारी ने कहा कि सभी सुरक्षा यूनिट्स को 'रीयर साइड प्रोटेक्शन' पर ध्यान देने को कहा गया। उन्होंने बताया कि जहां वीवीआईपी मौजूद हों, वहां प्रॉपर एक्सेस कंट्रोल और लेयर्ड सिक्योरिटी होनी चाहिए। सबसे अहम बात यह है कि अधिकारियों को 'रीयर साइड प्रोटेक्शन' पर विशेष ध्यान देने को कहा गया।

आबे को भाषण के दौरान मारी गई गोली
मालूम हो कि आबे (67) को पश्चिमी जापान के नारा में भाषण शुरू करने के कुछ मिनटों बाद हमलावर ने पीछे से गोली मार दी। आबे को विमान से अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उनकी सांस नहीं चल रही थी और उनकी हृदय गति रुक गई थी। ‘ब्लड ट्रांसफ्यूजन’ समेत आपात उपचार के प्रयास के बाद अस्पताल ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।