लखनऊ
 नीति आयोग के तीसरे नवाचार सूचकांक (इनोवेशन इंडेक्स) में हरियाणा तीसरे और उत्तर प्रदेश सातवें स्थान पर है। कर्नाटक लगातार तीसरी बार शीर्ष पर रहा। नीति आयोग के उपाध्यक्ष सुमन बेरी ने गुरुवार को सूचकांक रिपोर्ट जारी की। इंडिया इनोवेशन इंडेक्स-2021 में यूपी अब दो पायदान ऊपर पहुंच गया है। सभी राज्यों में उसकी रैंक 9वें से 7वें पर आ गई है। नीति आयोग द्वारा गुरुवार को जारी इंडिया इनोवेशन इंडेक्स 2021 की रिपोर्ट यह बात सामने आई है। कारोबारी वातावरण बनाने में उत्तर प्रदेश द्वारा देश में उच्चतम स्कोर (40.80) प्राप्त किया गया। यह समग्र कारोबारी माहौल में सुधार, क्लस्टर की बढ़ती तादाद, मैन्युफैक्चरिंग एवं सेवा क्षेत्र बढ़ोतरी के संभव हुआ है।

नॉलेज-आउटपुट श्रेणी में यूपी शीर्ष पांच राज्यों में है। यह उच्च स्कोर स्टार्ट-अप और नए व्यवसायों में वृद्धि का नतीजा है। इन्वेस्ट यूपी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अभिषेक प्रकाश ने कहा- इनोवेशन उद्यमशीलता ‘मेक-इन-इंडिया’ और ‘आत्मनिर्भर भारत’ कार्यक्रमों की सफलता के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है, हम लोग एक नवाचार-अनुकूल वातावरण बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं, ताकि स्टार्ट-अप्स, मैन्युफैक्चरिंग एवं सेवा सेक्टर और प्रोत्साहन मिल सके।
 
आईटी से संबंधित निर्यात कारण इंडिया इनोवेशन इंडेक्स में 6.18 के स्कोर के साथ उत्तर प्रदेश ने ज्ञान-प्रसार (नॉलेज डिफ्यूज़न) में राष्ट्रीय औसत 5.81 से अधिक स्कोर किया है। नीति आयोग और इंस्टीट्यूट ऑफ कम्पीटीटिवनेस द्वारा तैयार किया गया इंडिया इनोवेशन इंडेक्स राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को उनके नवाचार प्रदर्शन के आधार पर रैंक करता है। इंडिया इनोवेशन इंडेक्स 2020 में 36 मानक थे। इस बार 66 (इंडिया इनोवेशन इंडेक्स 2021 में) हो गए। यह नए मानक श्रमशक्ति/मानव संसाधन, निवेश, नॉलेज वर्कर्स, कारोबारी माहौल, सुरक्षा एवं कानूनी वातावरण, नॉलेज-आउटपुट व नॉलेज-डिफ्यूज़न पर आधारित हैं।