भोपाल

राजधानी में रोजाना भारी वाहनों की चपेट में आने से रहवासियों के दम तोड़ने की खबरें सामने आती रहती हैं। शहर के अयोध्या नगर, गांधीनगर, मंडीदीप, कोलार क्षेत्र में दिनभर भारी वाहन फर्राटे भरते नजर आते हैं। जबकि नियमानुसार सुबह 9 बजे के बाद इनकी एंट्री बंद होनी चाहिए लेकिन ऐसा नहीं हो पा रहा। यह वाहन कभी भी शहर में बड़ी दुर्घटना का कारण बन सकते हैं।

कोलार में भारी वाहनों की धमाचौकड़ी से उपनगर की 3 लाख आबादी परेशान हैं। यह दिन में भी कोलार मेन रोड और अंदुरनी सड़कों पर दौड़ते नजर आते हैं। इसके चलते उपनगर वासी हमेशा डर और सहमे हुए रहते हैं। खास बात यह हैं कि नो एंट्री के समय हेवी व्हीकल सड़कों बेखौफ चल रहे हैं। इनके खिलाफ कोलार थाना पुलिस कोई एक्शन नहीं लेता। इस वजह से इनके हौसले बुलंद रहते हैं। क्षेत्रीय लोगों का आरोप हैं कि पुलिस की सांठगांठ की वजह से दिन में सड़कों पर भारी वाहन निकल रहे हैं। इससे हर दम हादसे की आशंका बनी रहती है। गोल जोड़ से बैरागढ़ चीचली के बीच 10 किमी मेन रोड है। इस पर सुबह से देर रात तक काफी ट्रैफिक रहता है। इसी रोड से भारी वाहन भी गुजर रहे हैं।

दिनभर गुजरते हैं भारी वाहन
कोलार रोड पर बीमाकुंज, सर्वधर्म, ललिता नगर, गेहूंखेड़ा, बैरागढ़ चीचली, मदर टेरेसा, सेमरी रोड, कजलीखेड़ा, गोल जोड़, सोहागपुर, दानिशकुंज, रोहित नगर, सलैया, चूना भट्टी समेत कई इलाकों में भारी वाहनों की आवाजाही दिन में होती है।

शिकायत पर नहीं हुई कार्रवाई
ट्रॉले समेत भारी वाहन गुजरने को लेकर आम्र विहार जनकल्याण एवं विकास समिति ने कोलार थाने में शिकायत की थी। समिति के पदाधिकारियों द्वारा शिकायत करने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई। क्षेत्रीय रहवासियों का कहना हैं कि भारी वाहन नो एंट्री के समय का पालन करें।