भोपाल
राजधानी में अब मानसून में दबे पांव प्रवेश कर ही लिया है। कल रात भर की बारिश के बाद शहर तर बतर हो गया है और 24 घंटों में शहर में 25.7 एमएम बारिश दर्ज की गयी। इस समय प्रदेश के आसपास बारिश करने वाले तीन सिस्टम एक्टिव हो रहे हैं। ओडिशा में कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। जैसे ही यह पूरी तरह एक्टिव हो जाएगा शहर में झमाझम बारिश का दौर शुरू हो सकता है।   दक्षिणी झारखंड में भी हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात है। अरब सागर से भी नमी मिल रही है। इन तीनों वजह से अगले चार से पांच दिन भोपाल, इंदौर समेत दूसरे शहरों में अगले चार दिन रुक-रुक कर बारिश होती रहेगी।

 रिमझिम के बीच हो सकता मतदान
मानूसन के हैवी प्रैशर और यलो अलर्ट के बीच राजधानी का मौसम आगामी छह जुलाई को भी  बारिश से भरा होगा। मौसम विभाग का अनुमान है कि अरब सागर में बनने वाले चक्रवात के अगले 36 घंटों में पूरी तरह से एक्टिव होने की उम्मीद है। इससे  छह जुलाई को, जिस दिन मतदान होना है, उस दिन भोपाल और उसके आसपास रूक रूक कर बारिश होती रहेगी। कुछ जगहों पर तेज छींटे भी पड़ सकते हैं।

भोपाल, रायसेन, सीहोर, खंडवा, सागर, दमोह, हरदा, बैतूल और नर्मदापुरम में भारी बारिश हो सकती है। इसके अलावा जिन शहरों में  अति बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। उनमें बालाघाट, नरसिंहपुर, सिवनी मंडला, जबलपुर, छिंदवाड़ा, कटनी, डिंडोरी, शहडोल, अनूपपुर और उमरिया शामिल है। भोपाल में सुबह पानी गिरा। रात में भी रुक-रुक कर बारिश होती रही। खंडवा, अशोकनगर, सागर, छिंदवाड़ा, खंडवा, रायसेन और ग्वालियर भी तर हो गए। भिंड के दबोह में बिजली गिरने से चमेली कुशवाहा (40) की मौत हो गई।
टीकमगढ़ और दमोह में भी गाज गिरने से एक-एक मौत हुई है। सागर में घरों में 3-3 फीट तक पानी भर गया।