भोपाल
त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव के तीसरे एवं अंतिम चरण के लिए आज छिटपुट घटनाओं को छोड़कर शांतिपूर्ण मतदान हुआ। 20 हजार 608 मतदान केन्द्रों पर सुबह सात बजे शुरू हुआ मतदान दोपहर तीन बजे तक चलेगा। इसके तुरंत बाद मतदान केन्द्र में ही मतगणना की जाएगी। तीसरे चरण में जिला पंचायत सदस्य के 242, जनपद पंचायत सदस्य के 1 हजार 916, सरपंच के 6 हजार 408 और पंच के 22 हजार 378 पदों के लिए  के लिए एक करोड़ 13 लाख 11 हजार 479 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं। पंचायत चुनाव के तीसरे चरण में 58 लाख 36 हजार 623 पुरुष और 54 लाख 74 हजार 592 महिलाएं तथा 264 अन्य मतदाता मतदान कर रहे हैं। प्रदेश के ग्रामीण अंचलों में कई स्थानों पर आज मतदान के प्रति भारी उत्साह देखा जा रहा है।

मतदान केन्द्रों पर सुरक्षा के लिए 40 हजार पुलिस कर्मी तैनात किए गए हैं। प्रदेश मेें 3 हजार 59 मतदान केन्द्र संवेदनशील हैं। इन पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। तीसरे चरण में जिला पंचायत सदस्य के 243, जनपद पंचायत सदस्य के 1955, सरपंच के 6607 और पंच के 1 लाख 5 हजार 293 पद है। इनमें से एक जिला पंचायत सदस्य, 39 जनपद पंचायत सदस्य, 174 सरपंच औश्र 68 हजार 216 पंच निर्विरोध निर्वाचित हो चुके है।  इस कारण शेष पदों पर ही मतदान हो रहा है।  पंच के 14 हजार 699 पदों पर कोई नाम-निर्देशन पत्र प्राप्त नहीं है। यहां छह माह के भीतर चुनाव कराए जाएंगे।

मानसून सत्र और 18 जुलाई की मतगणना बढ़ सकती है आगे
मप्र विधानसभा का 25 जुलाई से शुरू होने वाला मानसून सत्र अब अगस्त में हो सकता है। वहीं 18 जुलाई को नगरीय निकाय चुनाव की होने वाली मतगणना की तारीख भी आगे बढ़ाई जा सकती है। इस संबंध में गृह एवं संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने संकेत दिए हैं। मिश्रा ने नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह से इस पर चर्चा भी की है।  गृहमंत्री ने बताया कि 18 जुलाई को राष्टÑपति के निर्वाचन की मतगणना होना हैं।

इसी दिन नगरीय निकाय चुनाव की भी मतगणना हैं। इसलिए नेता प्रतिपक्ष से इस संबंध में चर्चा की गई है कि नगरीय निकाय चुनाव की मतगणना की तारीख को आगे बढ़ाया जाए। वहीं उन्होंने कहा कि विधानसभा के मानसून सत्र को भी जुलाई की जगह पर अगस्त में किये जाने की बात नेता प्रतिपक्ष से की गई है। इस संबंध में जल्द ही राज्यपाल से भी बात की जाएगी। गौरतलब है कि विधानसभा का मानसून सत्र 25 जुलाई से शुरू होने वाला था।