आणंद

देश में बीते 24 घंटे में तीन अलग-अलग घटनाओं ने सुरक्षा व्यवस्था पर सवालिया निशान खड़े कर दिए हैं। अपराधियों को हौसले इतने बुलंद हो गए हैं कि, पुलिसकर्मियों को निशाना बनाने में भी वो नहीं चूक रहे हैं फिर आम आदमी क्या बिसात। हरियाणा के नूंह में डीएसपी को डंपर से कुचलने के बाद झारखंड के रांची में मिला दारोगा को वैन से कुचलने की घटना से हर किसी को हिला कर रख दिया। इस बीच गुजरात के आणंद से भी बड़ी खबर सामने आई है। बोरसाड में एक पुलिस कांस्टेबल पर जानलेवा हमला किया गया। बताया जा रहा है कि राजस्थान के एक संदिग्ध ट्रक ने दोपहर एक बजे पुलिसकर्मी किरण राज को कुचल दिया। अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

ये घटना नाइट ड्यूटी के दौरान घटी है जब एक ट्रक ने कांस्टेबल को कुचल दिया। ट्रैफिक में ड्यूटी के दौरान गंभीर हालत में राज किरण नाम के एक पुलिस कांस्टेबल को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

संदिग्ध ट्रक को रोकना पड़ा भारी
मिली जानकारी के मुताबिक, पुलिसकर्मी को संदिग्ध ट्रक को रोकना भारी पड़ गया। जब पुलिसकर्मी ने संदिग्ध ट्रक को रोकने की कोशिश की तो ट्रक चालक ने रुकने की बजाय पुलिसकर्मी पर ही ट्रक चला दिया।

वारदात के बाद ट्रक चालक ट्रक छोड़कर फरार हो गया। वहीं पीड़ित को नजदीकी अस्पताल श्रीकृष्ण मेडिकल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।

रांची में भी महिला इंस्पेक्टर को कुचला
इससे पहले झारखंड के रांची से भी ऐसी ही एक घटना सामने आई थी। तुपुदाना थाना क्षेत्र में बुधवार तड़के तीन बजे वाहन चेकिंग के दौरान एक पिकअप वैन ने महिला इंस्पेक्टर संध्या टोपनो को कुचल दिया।

जख्मी हालत में संध्या को अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्होंने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। मिली जानकारी के मुताबिक, वो खूंटी और गुमला जिले की पुलिस पशुओं की तस्करी करने वाले वाहनों का पीछा कर रही थी।

रांची पुलिस को भी सूचना थी कि पशुओं से लदे कुछ वाहन तुपुदाना होकर गुजरने वाले हैं। ऐसे ही संदिग्ध वाहनों को संध्या ने रोकने की कोशिश की, लेकिन वाहन चालक ने उन्हें ही कुचल दिया।

वहीं इससे पहले हरियाणा के नूंह इलाके में भी अवैध खनन के खिलाफ जांच कर रहे डीएसपी को डम्पर ने रौंद दिया था, जिसके बाद उनकी मौत हो गई थी।