नई दिल्ली

गुरुवार के कारोबार के आखिरी घंटे में मेटल कंपनियों के शेयरों में उछाल आया।  ब्लूमबर्ग द्वारा रिपोर्ट जारी की गई कि चीन की सरकार इंफ्रास्ट्रक्चर फंडिंग में तेजी लाने और महामारी से प्रभावित अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए विशेष बांड बेचकर 220 बिलियन डॉलर जुटाने पर विचार कर रही है। बॉन्ड की ये बिक्री साल की दूसरी छमाही में होने की संभावना है। इसके बाद से गुरुवार को भारतीय मेटल कंपनियों के शेयरों में तेजी आई।

रिपोर्ट के मुताबिक 220 बिलियन डॉलर का उपयोग देश के बुनियादी ढांचे के विकास में तेजी लाने के लिए किया जाना है। चीन से स्टील जैसी धातु की वस्तुओं की मांग सितंबर 2021 से सुस्त है, जब चीन में दूसरा सबसे बड़ा रियल एस्टेट डेवलपर एवरग्रांडे अपने ही कर्ज के बोझ तले दब गया। इस्पात निर्यात पर भारत सरकार का 15% शुल्क भी इस क्षेत्र को नुकसान पहुंचा रहा है। यह निर्यात को कम कर रहा है।