एटा

एटा में छोटे से विवाद के चलते दबंगों ने दुल्हन को विदा नहीं हो दिया। दो दिन तक दूल्हा-दुल्हन को बंधक बनाएं रहे। एएसपी के मामला संज्ञान में आया तो उन्होंने तुरंत कार्रवाई के आदेश दिए। एसडीएम, सीओ के देखरेख में दुल्हन को विदा किया। मामले में अलीगंज पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। पूरा मामला कोतवाली अलीगंज के मोहल्ला छेदालाल गौड़ का है। मोहल्ला में 16 जून को मैनपुरी से बारात आई थी। मैनपुरी के मोहल्ला गाड़ीवान से राधेश्याम कश्यप पुत्र पुष्पेंद्र (भोले) की बारात लेकर अलीगंज के मोहल्ला छेंदालाल गाौड अए थे। बारात की रश्में पूरी हो रही थी, बैंड बाजों की धुन पर थिरकते हुये दूल्हे के साथ बाराती नाचते हुए जा रहे थे। द्वारचार की रश्म के दौरान आतिशबाजी चल रही थी। अतिशबाजी चलने के दौरान आतिशबाजी की चिंगारी एक बच्चे के लग गई।

उस समय विवाद हुआ तो मामला शांत करा दिया। दुल्हन अपने घर से कार में बैठ करकर विदाई के निकलने वाली थी। कई लोग आ गए और दुल्हन को गाड़ी से उतार करके उसके घर भेज दिया और दूल्हे समेत बारात को एक कमरे में बंधक बना लिया। जिसके बाद में वहां तनाव की स्थिति बन गई। बड़े बुजुर्गो के समझाने के बाद भी दबंग अपनी जिद पर अड़े रहे। दो दिन तक दबंगों ने दुल्हन की विदाइ नहीं होने दी साथ ही दूल्हे, रिश्तेदारों को भी बंधक बनाएं रखा। मामले की जानकारी एएसपी धनंजय सिंह कुशवाह को हुई। जानकारी के बाद उन्होंने तत्काल कार्रवाई के आदेश दिए। एसडीएम मानवेन्द्र सिंह, सीओ, अलीगंज पुलिस मौके पर पहुंची और बेटी की विदाई कराई है।

 
दुल्हन की मां-पिता बोलें दबंगों ने की पिटाई: दुल्हन की मां-बाप का आरोप है कि 16 जून को मैनपुरी से हमारी बेटी की बारात आयी थी। एक बच्चे के आतिशबाजी की चिंगारी लग गयी थी। इसी बात को लेकर बरातियों के साथ दबंगों ने पिटाई कर दी। एएसपी एटा धनंजय सिंह कुशवाह ने बताया कि मामला संज्ञान में आया है। अलीगंज पुलिस को जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए है। दुल्हन की विदाई करवाई गई। जिन लोगों ने ऐसा किया है उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।