कोलकाता
 चक्रवात तूफान रेमल के कारण पश्चिम बंगाल के कई तटीय इलाकों में तेज हवाएं चल रही हैं। इसके कारण राजधानी कोलकाता और दक्षिण बंगाल के अन्य हिस्सों में हवाई, रेल और सड़क परिवहन में व्यवधान पैदा हुआ है। कोलकाता एयरपोर्ट के अधिकारियों ने बताया कि ऐहतियात के तौर पर रविवार दोपहर से 21 घंटे के लिए फ्लाइट ऑपरेशन को सस्पेंड कर दिया गया है। इसके अलावा, पूर्वी और दक्षिण पूर्वी रेलवे ने कई ट्रेनें रद्द कर दी हैं। इस बीच रेलवे ने भारी हवाओं को देखते हुए ऐहतियात के तौर पर ट्रेनों को चेन के जरिए ट्रैक से बांध दिया है, ताकि साइक्लोन में उन्हें पटरी से खिसकने से रोका जा सके। शालीमार रेलवे स्टेशन का एक वीडियो सामने आया है जहां रेल कर्मचारी ट्रेनों को चेन के जरिए ट्रैक से बांध रहा है।
 

तूफान के कारण पश्चिम बंगाल के दक्षिणी इलाकों में रुक-रुक कर बारिश हो रही है। बारिश और तेज हवाओं के ने दक्षिण बंगाल के जिलों को प्रभावित किया है। इसकी वजह से कोलकाता में अधिकतर बसें, टैक्सियां और तिपहिया वाहन सड़कों से नदारद रहे। भारतीय हवाईअड्डा प्राधिकरण (AAI) के एक अधिकारी ने कहा कि उड़ानों पर रोक के दौरान कुल 394 अंतरराष्ट्रीय और घरेलू उड़ानें संचालित नहीं होंगी। अधिकारी ने बताया कि यह एहतियाती कदम नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के स्टेकहोल्डर्स के साथ बैठक के बाद उठाया गया है। कोलकाता समेत पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्र पर चक्रवात रेमल के प्रभाव को देखते हुए 26 मई की दोपहर से 27 मई को सुबह नौ बजे तक उड़ान संचालन को निलंबित करने का निर्णय लिया गया है।

रेल सेवा प्रभावित
इस बीच अधिकारियों ने कहा कि पूर्वी और दक्षिण पूर्वी रेलवे ने एहतियात के तौर पर दक्षिण और उत्तर 24 परगना और पूर्ब मेदिनीपुर जिलों से गुजरने वाली कुछ ट्रेनें रद्द कर दी हैं। एक अधिकारी ने कहा कि पूर्वी रेलवे ने सियालदह दक्षिण खंड और सियालदह मंडल के बारासात-हसनाबाद खंड में रविवार रात 11 बजे से सोमवार सुबह छह बजे तक ट्रेन सेवाएं निलंबित कर दीं और कई ईएमयू लोकल ट्रेनें रद्द कर दीं।