नई दिल्ली

टाटा मोटर्स ने कच्चे माल की बढ़ती लागत के प्रभाव को आंशिक रूप से कम करने के लिए अपने यात्री वाहनों की कीमतों में तत्काल प्रभाव से वृद्धि  की है। भारत की प्रमुख ऑटो कंपनी ने शनिवार को एक बयान में कहा कि 0.55 प्रतिशत की भारित औसत वृद्धि शनिवार से सभी श्रेणियों में होगी। यह बढ़ोतरी संस्करणों और मॉडलों के आधार पर अलग-अलग है।

बयान में कहा गया कि कंपनी ने बढ़ी हुई उत्पादन लागत के एक महत्वपूर्ण हिस्से को अवशोषित करने के लिए व्यापक उपाय किए हैं। कंपनी ने कहा कि उत्पादन लागत में हुई कुल वृद्धि के प्रभाव की भरपाई के लिए कीमतों में न्यूनतम बढ़ोतरी की जा रही है। टाटा मोटर्स पहले ही इस महीने से अपने 'वाणिज्यिक वाहनों' की कीमतों में 1.5 से 2.5 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी कर चुका है।

जून में बेचीं करीब 80 हजार कारें
टाटा मोटर्स की जून सेल्स रिपोर्ट देखें तो इस कंपनी ने डोमेस्टिक मार्केट में कुल 79,606 वीइकल्स बेचे, जो कि 82 फीसदी की सालाना और 6 फीसदी की मंथली ग्रोथ के साथ है। पैसेंजर वीइकल्स की डिमांड पिछले महीने भी खूब रही, जिनमें कारों की बात करें तो टाटा मोटर्स ने कुल 45,197 यूनिट पिछले महीने डोमेस्टिक मार्केट में बेची। यह संख्या पिछले साल जून के मुकाबले 87.46 फीसदी ज्यादा है। वहीं, मंथली रूप में से यह 4.28 फीसदी ज्यादा है। मई 2022 में टाटा मोटर्स ने कुल 43,341 कारें बेची थीं।