सम्भल
उत्तर प्रदेश के सम्भल जनपद में रविवार की रात बेरहमी से ग्रामीण की हत्या कर दी गई। हमलावर पहले तो ग्रामीण को घर से खींचकर बाहर तक लाए, फिर कार में जबरन डालकर अपने घर ले गए। वहां पहले ग्रामीण की जीभ काटी, फिर एक आंख चाकू से निकाल ली। इसके बाद शरीर पर 20 से अधिक बार चाकू मारकर उसकी हत्या कर दी। वारदात रजपुरा थाना क्षेत्र के गांव भगता नगला में हुई। हत्या के बाद हमलावरों ने ग्रामीण का शव गांव से बाहर बाग में ले जाकर फेंक दिया। ग्रामीण के शरीर पर चाकू से लगभग 20 से अधिक वार किए गए हैंं। पूरी रात ग्रामीणों ने शव नहीं उठने दिया। किसी तरह पुलिस ने लोगों को समझा बुझाकर भोर में तीन बजे शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

गांव भगता नगला निवासी साहब सिंह (50) पुत्र ज्ञानी सिंह की गांव के हेतराम से 20 साल पहले जमीन को लेकर विवाद हुआ था। उसके बाद दोनों पक्षों में समझौता हो गया था। तभी से दोनों पक्ष एक दूसरे से बात करते थे और घर पर आना जाना भी था। गांव के हेतराम और रामकुमार ने रविवार की शाम एक साथ शराब पी ली थी। शराब के नशे में रामकुमार हेतराम को साहब सिंह के घर के सामने गाली गलौज करने लगा। इन्होंने गाली गलौज करने का विरोध किया तो साहब सिंह भी कहासुनी हो गई। इसके बाद हेतराम अपने बेटों के साथ कार से साहब सिंह के घर पहुंच गया। जबरन साहब सिंह को कार में डाल लिया और ले जाने लगे।

साहब सिंह के बेटे महेंद्र ने बचाने का प्रयास किया तो उन्हें भी कार से टक्कर मार दी। इससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए। हमलावर साहब सिंह को अपने घर ले गए। जहां चाकू से गोदकर उनकी हत्या कर दी। हमलावरों ने साहब सिंह की एक आंख चाकू से निकाल ली तो जीभ भी काट ली। इसके बाद गांव के बाहर ले जाकर रानी बाले बाग में शव डाल दिया। रात में लगभग 10.30 बजे स्वजन साहब सिंह को तलाशते हुए बाग पर पहुंचे। इसके बाद थाना पुलिस भी मौके पर पहुंच गई, लेकिन पुलिस शुरुआत में हत्या को सड़क हादसा बता रही थी। इसी बात को लेकर ग्रामीणों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। पूरी रात शव नहीं उठने दिया। पुलिस ने कड़ी कार्रवाई करने का आश्वासन देकर किसी तरह सोमवार को भाेर में तीन बजे शव कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। प्रभारी निरीक्षक कुलदीप कुमार ने बताया कि तहरीर मिल गई है। मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। जीभ काटने की बात सामने आ रही है। उसकी पुष्टि पोस्टमार्टम के बाद ही होगी।