रायपुर
छग स्टेट पावर लिफ्टिंग चैम्पियनशिप का आयोजन गुढि?ारी काली मंदिर कमेटी हाल में संपन्न हुई। इस प्रतियोगिता में पुरुष वर्ग में स्ट्रांग मेन दुर्ग के प्रीतपाल तांडी 562.5 किलो और बिलासपुर की राजमनी सिंह ठाकुर 197.5 किलो वजन उठाकर स्ट्रांग वुमेन का खिताब हासिल की। वहीं पहली बार मिनी बालक की प्रतियोगिता में स्ट्रांग बालक जांजगीर के अखिल सारथी को मिला जिन्हें ताम्रकार जीम की ओर से 1100 रुपये का नगद पुरस्कार दिया गया। प्रतियोगिता के सभी खिताबधारी को संसदीय सचिव व विधायक विकास उपाध्याय ने मोमेंटो देकर सम्मानित किया।

छग पावर लिफ्टिंग एसोसिएशन के क्वारडीनेटर माणिक ताम्रकार ने बताया कि पुरुष वर्ग में  मिनी सब जूनियर स्ट्रांग बालक में जांजगीर के अखिल सारथी 102.5 किलो वजन उठाकर स्ट्रांग बालक बने। सब जूनियर में कोरबा के मयंक विश्वकर्मा 422.5 किलो वजन उठाकर सब जूनियर वर्ग का खिताब जीता। जूनियर वर्ग का खिताब राजनांदगांव के संतोष साहू 475.5 किलो वजन उठाकर खिताब पर कब्जा जमाया। सीनियर वर्ग का खिताब प्रीतपाल तांडी  562.5 किलो वजन उठाकर कब्जा जमाया। स्ट्रांग मेन मास्टर का खिताब भिलाई के राम नगीना सिंह 475.5 किलो वजन उठाकर खिताब पर कब्जा किया। महिला वर्ग में सब जूनियर वर्ग का खिताब बालोद के संजना बांबेस्वर, जूनियर वर्ग में महासमुंद के विद्या सिंह ठाकुर और सीनियर वर्ग में बिलासपुर के राजमणि सिंह ठाकुर को मिला। मास्टर वर्ग में कोरिया के रतना साकिया को मिला।

छग वर्ल्ड पावर लिफ्टिंग के महासचिव उदल वाल्मीकि और अध्यक्ष लखपति सिंदूर ने बताया कि 22 से 24 सितंबर को असम के गुवाहाटी में आयोजित नेशनल पावर लिफ्टिंग की प्रतियोगिता में खिताब धारी का चयन किया गया है। इसके अलावा पावर लिफ्टिंग में विजयी खिलाड़ी का भी चयन प्रदर्शन के आधार पर किया गया है। महिला खिलाड़ी जिनका चयन हुआ है उनमें संजना, प्रिया धीवर, डाली धीवर, हेमा देवांगन, विद्या ठाकुर, अंजलि देवांगन, तुलसी मंडल, रानी रागिनी, जेनिफर खलखो, गूंजा फुटान, निक्की गुप्ता, मुस्कान बत्रा, वेनजुला देवांगन, रागिनी साहू, कीनताली धन लक्ष्मी, दिशा पटेल, मंजू पटेल, ज्योति अरोरा, स्नेहा रेंगे, राज मनी ठाकुर, कमला देवी मंगतानी, रत्ना साकिया शामिल है। प्रतियोगिता के मुख्य निर्णायक मोहित वालदे, प्रदीप क्षत्री, डॉ रविन्द्र नाथ, पिंटो वर्मा, मधुर साहू, लोकेश यदु, अमित रामटेके, धर्मेन्द्र दास, दीपक सिदार, दीपक अग्रवाल, माता शरण साहू थे।