कटक
न्यायाधीश सुभाष दो दिनों की छुट्टी पर थे। शुक्रवार को ही उन्हें योगदान देना था परंतु शुक्रवार की ही सुबह उन्होंने अपने स्टेनो को फोन कर छुट्टी बढ़ाने को कहा था। इधर घटना की जानकारी पाकर मौके पर पहुंचे एसीपी तापस प्रधान ने घटना स्थल का अवलोकन किया।
जेएनएन, कटक: कटक पोक्सो कोर्ट के विशेष न्यायाधीश सुभाष कुमार बिहारी ने शुक्रवार सुबह फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। उनका शव सरकारी आवास में पंखे से एक रस्सी के सहारे झूलता मिला। जिस समय यह घटना घटी, उनकी पत्नी और बच्चे घर पर नहीं थे। जब वे बाहर से लौटे तो न्यायाधीश को पंखे से झूलता पाया। आनन-फानन में उन्हें एक निजी चिकित्सा केंद्र ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

 

मौत के कारण स्पष्ट नहीं
प्राथमिक जांच में मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। जानकारी के मुताबिक न्यायाधीश सुभाष दो दिनों की छुट्टी पर थे। शुक्रवार को ही उन्हें योगदान देना था, परंतु शुक्रवार की ही सुबह उन्होंने अपने स्टेनो को फोन कर छुट्टी बढ़ाने को कहा था। इधर, घटना की जानकारी पाकर मौके पर पहुंचे एसीपी तापस प्रधान ने घटना स्थल का अवलोकन किया। उन्होंने बताया कि घटना स्थल से सुसाइड नोट आदि नहीं मिले हैं। रस्सी व वहां से बरामद अन्य सामग्री को जब्त कर लिया गया है, जिसकी फोरेंसिक जांच कराई जाएगी। जज के छोटे भाई सुबोध कुमार बिहारी के अनुसार माता-पिता सब गांव में रहते हैं। गांव में किसी भी प्रकार का पारिवारिक विवाद नहीं था।

 

दो दिनों की छुट्टी पर थे न्यायाधीश
न्यायाधीश के स्टेनो आरएन महापात्रा के अनुसार, सुभाष कुमार को दो दिन की छुट्टी के बाद शुक्रवार को काम पर लौटना था, लेकिन उन्होंने शुक्रवार से फिर छुट्टी के लिए आवेदन किया। महापात्रा ने पुलिस को बताया कि न्यायाधीश ने उन्हें सुबह 10:00 बजे बुलाया और उनसे आज (शुक्रवार) के लिए भी छुट्टी का आवेदन लिखने को कहा। हालांकि, कुछ घंटों बाद उन्होंने कहा कि उन्हें खबर मिली कि जज की तबीयत खराब है और उन्हें अस्पताल ले जाया जा रहा है। उनकी मौत का सही कारण अभी सामने नहीं आया है। पुलिस ने घटना को लेकर जांच शुरू कर दी है।