सियोल
दक्षिण कोरिया के खाद्य और औषधि सुरक्षा मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि सरकार ने देश की पहली कोरोना वायरस वैक्सीन 'स्काईकोविवन' के उत्पादन और बिक्री की स्वीकृति दे दी। खाद्य और औषधि सुरक्षा मंत्री ओह यू-क्यूंग ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'दक्षिण कोरिया के खाद्य और औषधि सुरक्षा मंत्रालय ने कोविड वैक्सीन के लिए अंतिम निरीक्षण आयोग का गठन किया और कोरोनो वायरस वैक्सीन के निर्माण और वितरण के लिए कोरिया बायोसाइंस को स्वीकृति देने का निर्णय लिया।'

'स्काईकोविवन'वैक्सीन
दक्षिण कोरिया के खाद्य और औषधि सुरक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि, यह वैक्सीन एस्ट्रेजेनेका टीके की तुलना में अधिक प्रभावी माना जा रहा है। हालांकि,यह यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि अधिकारी इस नए विकसित टीके 'स्काईकोविवन' को महामारी के अगले चरण में कैसे इसका इस्तेमाल करेंगे और आगे इसकी क्या भूमिका रहेगी। इससे पहले कोरोना के ओमीक्रेन वैरिएंट ने देश में कहर बरपा दिया था।

'स्काईकोविवन'वैक्सीन करेगा कोरोना से मुकाबला
अभी तक दक्षिण कोरिया में बड़े पैमाने पर कोरोना टीकाकरण अभियान में मुख्य रूप से फाइजर और मॉडर्ना के एमआरएनए टीके ही इस्तेमाल में लाया जा रहा था। अब जब साउथ कोरिया ने खुद का घरेलु टीका तैयार कर लिया है तो यह आगे देखना दिलचस्प होगा कि आगे यह अन्य टीकों से प्रतिस्पर्धा करते हुए कोरोना से कैसे मुकाबला कर पाता है।

'स्काईकोविवन' वैक्सीन कितना कारगर होगा?
अधिकारियों का कहना है कि, स्काईकोविवन जैसे प्रोटीन टीके, जो आम फ्लू और हेपेटाइटिस बी के खिलाफ सालों से इस्तेमाल में लाया जा रहा था,अब उन लोगों से अपील कर सकते हैं जो नई प्रौद्योगिकियों के साथ विकसित टीकों का उपयोग करने में संकोच करते हैं।