नई दिल्ली
 
टीम इंडिया के बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन सिर्फ वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में ही टीम का हिस्सा हैं। उनके सीमित ओवरों की क्रिकेट के आंकड़ें उन्हें टीम का एक महत्वपूर्ण सदस्य बनाते हैं, लेकिन पिछले कुछ वर्षों से, कुछ युवाओं ने अपनी छाप छोड़ी है और ऐसे में बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज को भारत की T20I योजना से बाहर होना पड़ा है। ऐसे में अब शिखर धवन की निगाहें अगले साल भारत में होने वाले वनडे वर्ल्ड कप पर हैं। धवन खुद भी एकदिवसीय क्रिकेट पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और बिना किसी संदेह के उनका अंतिम लक्ष्य अगले साल के एकदिवसीय विश्व कप में सफलता प्राप्त करना है, जो भारत में आयोजित किया जाएगा। इसके अलावा धवन आईपीएल के साथ विजय हजारे ट्रॉफी और सैयद मुश्ताक अली टी20 ट्रॉफी में भी खेलेंगे, ताकि विश्व कप तक खुद को अच्छी स्थिति में रखा जा सके।

इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली वनडे सीरीज से पहले शिखर धवन ने कहा, "मैं दौरे से पहले अच्छी तरह से तैयारी करने की आवश्यकता को समझता हूं, इसलिए मैं अपने बेसिक्स और अपनी तैयारी के तरीके पर ध्यान देना सुनिश्चित करता हूं। मैं इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए काफी समय से अभ्यास कर रहा था और मुझे यकीन है कि आने वाले मैचों में, मैं अच्छी लय में रहूंगा।"

36 वर्षीय खिलाड़ी ने आगे कहा, "मेरा ध्यान अगले साल होने वाले विश्व कप पर है और उसके लिए मैं भारत के लिए ज्यादा से ज्यादा मैच खेलना चाहता हूं और वहां अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं। बीच में आईपीएल भी होगा, इसलिए मैं वहां अच्छा प्रदर्शन करने की कोशिश करूंगा और घरेलू वनडे और टी20 मैच भी खेलूंगा।" वेस्टइंडीज के खिलाफ धवन कप्तानी करते भी नजर आएंगे।  

भारतीय टीम के लिए आखिरी मैच उन्होंने 11 फरवरी को अहमदाबाद में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था, जो एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच था। ऐसे में पांच महीने के बाद वे टीम में शामिल होंगे और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहेंगे। उन्होंने कहा, "मेरे पास अनुभव है। साथ ही, मैं अपने बेसिक्स और तकनीक को लेकर काफी आश्वस्त हूं, जो एक ओपनर के लिए महत्वपूर्ण पहलू हैं।