भोपाल
 भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर हमलावर रहने के कारण हमेशा सुर्खियों में रहने वाले कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह एक बार फिर चर्चाओं में हैं। उन्होंने सावरकर को लेकर जो बयान साझा किया है, उसने सियासी हलचल पैदा कर दी है।

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीटर हैंडल पर लिखा है, "सावरकर जी पर कुछ और तथ्य सामने आए हैं। सुनना चाहेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री ने इसके साथ एक वीडियो भी साझा किया है। इसमें वक्ता सावरकर को लेकर कह रहा है कि सावरकर को पहली चार माह की सजा वर्ष 1908 में एक अंग्रेजी महिला से रेप करने की कोशिश के आरोप पर हुई थी।"

दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीट के साथ जो बयान साझा किया है, उसमें सावरकर द्वारा कई बार अंग्रेजी सरकार से माफी मांगने और पेंशन की राशि बढ़ाए जाने के लिए पत्र लिखने की भी बात कही गई है।

पूर्व मुख्यमंत्री के साझा किए गए बयान पर भाजपा हमलावर है। राज्य सरकार के मंत्री विश्वास सारंग ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा, महान क्रांतिकारी पर इस तरह की बातें करना दुर्भाग्यशाली है। जहां तक दिग्विजय सिंह की बात है, वे मीडिया में सुर्खियां बने रहने के लिए इस तरह की बातें करते है। वीर सावरकर ने देश की आजादी के लिए जो कुछ किया उसके लिए दिग्विजय सिंह जैसे छोटे लेागों की जिनकी मानसिक स्तर खत्म हो चुका है उनके सार्टिफिकेट की जरुरत नहीं है।