भोपाल
 सांची के दही, मठा व लस्सी की कीमतें दो रुपये से लेकर चार रुपये तक बढ़ गई है। पांच प्रतिशत जीएसटी लगने के बाद दामों में बढ़ोतरी हुई है। इसके पहले 13 मई 2022 को सांची के दुग्ध उत्पादों की कीमतें बढ़ाई थी। तब इन उत्पादों पर जीएसटी लागू नहीं थी। वहीं सांची घी की कीमतों में प्रति लीटर 160 रुपये की बढ़ोरती की है। यह बढ़ोतरी बीते आठ माह में बारी-बारी से की है। हाल ही में 21 जुलाई से एक लीटर सांची घी की कीमत 630 रुपये कर दी है। आठ माह पूर्व यह कीमत 470 रुपये थी। पार्लरों पर घी की कमी बनी हुई है। उपभोक्ताओं का कहना है कि उन्हें घी नहीं मिल रहा है। यही हाल रहा तो त्योहारों में दिक्कत बढ़नी तय है।

इधर, भोपाल सहकारी दुग्ध संघ से मिली जानकारी के मुताबिक उपभोक्ताओं को आधा लीटर वाला दही 52 रुपये, 200 मिलीग्राम की पैकिंग वाला सादा दही 26 रुपये, पाली पैकिंग वाला दही 32 रुपये, आधा लीटर वाला सादा मठा 16 रुपये और 200 ग्राम की पैकिंग में मिलने वाली लस्सी 26 रुपये में मिल रही है। जीएसटी लागू होने के पहले तक इनकी कीमतें क्रमश: 50, 25, 30, 15 व 25 रुपये थी। भोपाल सहकारी दुग्ध संघ की तरह प्रदेश के इंदौर, जबलपुर, उज्जैन, सागर व ग्वालियर सहकारी दुग्ध संघों ने भी दाम बढ़ा दिए है। उपभोक्ताओं का कहना है कि जीएसटी लगा रहे हैं तो उत्पादों के दाम कम किए जाएं। इस तरह दाम बढ़ाते गए तो आम उपभोक्ता उत्पादों का उपयोग ही नहीं कर सकेंगे।