रुड़की
रुड़की कोतवाली सिविल लाइंस क्षेत्र में 25 जून को हुए मां-बेटी से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में पुलिस ने पांच आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। पकड़े गए आरोपितों से पूछताछ करने के बाद उनका चालान कर दिया गया है। इस मामले में गढ़वाल मंडल के डीआइजी ने पुलिस टीम को 50 हजार का इनाम देने की घोषणा की है।

चलती कार में मा बेटी के साथ किया था सामूहिक दुष्कर्म
सिविल लाइन कोतवाली में आयोजित प्रेस वार्ता में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि 25 जून को एक महिला ने कोतवाली में सूचना दी थी कि कार सवार व्यक्तियों ने उसके और उसकी पांच साल की बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया है।

मोबाइल फोन सर्विलांस और सीसीटीवी कैमरों से मिली मदद
घटना की गंभीरता को देखते हुए इस मामले में कई थानाध्यक्षों की टीम बनाकर आरोपितों की धरपकड़ के प्रयास किए जा रहे थे। मोबाइल फोन सर्विलांस और सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से पुलिस को कुछ सफलता मिली। सबसे पहले पुलिस ने उस कार को चिहि्नत किया। जिसमें कांड को अंजाम दिया गया था। सबसे पहले पुलिस ने महक सिंह उर्फ सोनू निवासी इमली खेड़ा थाना पिरान कलियर को गिरफ्तार किया।

चार आरोपित है उत्‍तर प्रदेश के रहने वाले
इसके बाद पुलिस ने राजीव उर्फ विक्की तोमर निवासी ग्राम बेल्डा थाना भोपा जिला मुजफ्फरनगर, तेज निवासी साहपुर थाना देवबंद जिला सहारनपुर, जगदीश निवासी शाहपुर थाना देवबंद और सुबोध निवासी बेल्डा थाना भोपा जिला मुजफ्फरनगर को गिरफ्तार कर लिया गया है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जिस गाड़ी अल्टो का इस्तेमाल किया गया था, वह राजीव के नाम पर पंजीकृत है। गाड़ी को भी बरामद कर लिया गया है।