जालौन
 
बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे को शुरू हुए पांच दिन भी नहीं हुए हैं कि सारे दावे की पोल खुल गई है. जालौन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन 16 जुलाई को किया था. लोकार्पण के पहले कहा जा रहा था कि बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे मजबूती की मिसाल बनेगा, लेकिन जरा सी बारिश ने मजबूती के दावे की हवा निकाल दी है.

देश के बड़े-बड़े इंजीनियरों ने बड़ी बारीकी से मजबूती को ध्यान में रखकर बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे निर्माण किया, लेकिन पहली बारिश ने बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की मजबूती की पोल खोल दी. जालौन में एक जगह पर सड़क धंस गई है. इसका वीडियो जैसे ही सामने आया तो समाजवादी पार्टी (सपा) हमलावर हो गई.

समाजवादी पार्टी (सपा) ने वीडियो ट्वीट करके कहा, 'बारिश ने खोल दी अधूरे बुंदेलखंड एक्स्प्रेस-वे की पोल. प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री द्वारा लोकार्पित बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का बारिश में निकला दम. अधूरे एक्सप्रेस-वे को बुंदेलखंडियों के लिए सौगात बताने वाली भाजपा सरकार जनता को गुमराह कर रही है. शर्म करो प्रचारजीवी सरकार.'

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के 195 किलीमोटर के खंभे के पास बुधवार रात तेज बारिश में एक्सप्रेस-वे की कुछ सड़क धंस गई. रात में ही बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की कार्यदायी संस्था UPEIDA ने सड़क का मरम्मत करना शुरू कर दिया था. गुरुवार सुबह भी मरम्मत कार्य चल रहा था. फिलहाल सड़क धंसने पर कोई भी अधिकारी बोलने से बच रहा है.