अहमदाबाद

गुजरात के अहमदाबाद में भी भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा निकाली जाती है. अहमदाबाद के जगन्नाथ मंदिर से निकलने वाली रथयात्रा की शुक्रवार को शुरुआत हो गई. मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल ने विधि-विधान के साथ पहिंद विधि से रथयात्रा की शुरुआत की. मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने सोने के झाड़ू से झाड़ू लगाकर रथयात्रा की शुरुआत की.

मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के सोने के झाड़ू से झाड़ू लगाने के साथ ही अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा शुरू हो गई. अहमदाबाद के जगन्नाथ मंदिर से निकलने वाली रथयात्रा सरसपुर इलाके में जाएगी जिसे भगवान जगन्नाथ के मामा का घर कहा जाता है. भगवान जगन्नाथ पुराने अहमदाबाद के प्रेम दरवाजा के रास्ते मंदिर में वापस लौटते हैं.

अहमदाबाद में ओडिशा के पुरी में जगन्नाथ मंदिर से निकलने वाली रथयात्रा की तर्ज पर होने वाले इस आयोजन से पहले मंगला आरती हुई. 145वीं रथयात्रा से पहले मंगला आरती के बाद भगवान जगन्नाथ की आंखों पर बंधी पट्टी खोली गई. मंगला आरती में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी शामिल हुए थे. भगवान जगन्नाथ 2 जुलाई को पुराने अहमदाबाद में नगरयात्रा पर निकलेंगे. ये यात्रा 19 किलोमीटर लंबी होगी.

पुरी में भी तैयारियां पूरी

ओडिशा के पुरी में भी भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा को लेकर भी सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. दो साल बाद जगन्नाथ रथयात्रा में आम श्रद्धालु भी शामिल हो सकेंगे. भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा को लेकर सुरक्षा के भी कड़े इंतजाम किए गए हैं.

गौरतलब है कि इससे पहले इस तरह की खबरें थीं कि मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल कोरोना वायरस से संक्रमित होने के कारण इस बार भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा में शामिल नहीं होंगे. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने जगन्नाथ मंदिर से निकलने वाली रथयात्रा के आयोजन में परंपरा का निर्वहन करते हुए पहिंद विधि से यात्रा की शुरुआत भी की.