भोपाल
कांग्रेस और भाजपा में बगावत और नेताओं के समर्थकों को टिकट दिए जाने का दबाव अब तक कायम हैं। इंदौर में जहां जीतू पटवारी के कारण उनके विधानसभा क्षेत्र के चार वार्ड से पार्षद उम्मीदवार पार्टी तय नहीं कर सकी है। वहीं भोपाल के एक वार्ड में भी पूर्व मंत्री के दखल के चलते यहां पर भी प्रत्याशी का ऐलान नहीं हो पाया है।

इधर, भोपाल में ननि के 6 वार्डों के प्रत्याशी भाजपा घोषित नहीं कर पाई। प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव के क्षेत्र खंडवा और बुरहानपुर में भी बगावत थम नहीं रही है। खंडवा के 15 वार्डो में पार्टी टिकट से नाराज होकर नेताओं ने नामांकन जमा किए हैं। पार्षद उम्मीदवार को लेकर खंडवा में जबरदस्त नाराजगी दिखाई दी है। यहां के 50 वार्डो में से 15 वार्डो में पार्टी के नेताओं ने पार्षद चुनाव लड़ने के लिए नामांकन दाखिल कर दिया है। वार्ड 6 के बागी हुए सुनील जायसवाल ने तो सोशल मीडिया पर साफ कर दिया कि वे कांग्रेस को अलविदा कह चुके हैं और अब चुनाव वे लड़ेंगे।

उनके इस रुख को देखने के बाद कई नेताओं ने भी अपने नामांकन वापस नहीं लेने की जानकारी सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दी है। खंडवा विधानसभा क्षेत्र के युवा कांग्रेस अध्यक्ष शहजाद पवार ने भी पार्टी से बगावत कर नामांकन दाखिल किया है। यहां से कांग्रेस ने शुक्रवार की रात को इस्माईल लोहार का टिकट तय किया था। बुरहानपुर में भी जबरदस्त बगावत देखी जा रही है। यहां पर भी पार्टी के खिलाफ जाकर कई वार्डो से नामांकन भरे गए हैं। यही स्थिति भोपाल की भी है।

यहां पर भी दिक्कत
रतलाम में कांग्रेस के अधिकृत उम्मीदवार मयंक जाट के टिकट से नाराज होकर यहां पर कांग्रेस के नेता प्रकाश राठौर ने अपना नामांकन भर दिया है। यहां पर अब प्रकाश राठौर को मनाने का काम किया जाएगा। हालांकि प्रकाश राठौर का नाम कांग्रेस के तीन नामों की पैनल में भी नहीं था। इससे वे नाराज बताए जाते हैं। इधर छिंदवाड़ा के महापौर उम्मीदवार विक्रम अहाके के टिकट से नाराज होकर बलराम प्रतीति ने नामांकन दाखिल किया है। अब उन्हें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ खुद मना सकते हैं।

भोपाल युवा कांग्रेस के नाराज जिला अध्यक्ष देंगे पीसीसी के बाहर धरना
भोपाल युवा कांग्रेस के जिला अध्यक्ष नरेंद्र यादव भी पार्षदों के टिकट वितरण से खासे नाराज है। वे अपने युवा कांग्रेस के साथियों के साथ मिलकर टिकट वितरण के विरोध में पीसीसी के बाहर आज धरना देने जा रहे हैं। शाम को उनका यह धरना होगा। नरेंद्र यादव ने आरोप लगाया कि युवा कांग्रेस से भोपाल में एक भी टिकट नहीं दिया गया है। ऐसे में युवा कांग्रेस चुनाव में कैसे काम कर सकेगा। युवा कांग्रेस के कई साथी पार्षद टिकट के लिए दावेदारी कर रहे थे। युवा कांग्रेस को दरकिनार करने के विरोध में साथियों के साथ धरना देंगे।

इंदौर में जीतू पटवारी के कारण चार वार्डो में प्रत्याशी चयन को लेकर फंसा पेंच
इधर इंदौर के 6 वार्डो से कांग्रेस अपने अधिकृत उम्मीदवारों का ऐलान नहीं कर सकी है। इसमें से चार वार्ड राऊ विधानसभा क्षेत्र के हैं। यहां पर जीतू पटवारी अपने समर्थकों को टिकट दिलाना चाहते हैं, जबकि बाकी के नेता यहां पर अपने-अपने समर्थकों को टिकट दिलाना चाहते हैं। उनकी विधानसभा क्षेत्र के वार्ड 74, 76, 80 और 81 में पार्षद उम्मीदवार का ऐलान नहीं हो सका है।  वहीं विधानसभा क्रमांक एक से भी वार्ड 2 और 8 में पार्षद उम्मीदवार का ऐलान कांग्रेस अब तक नहीं कर सकी है। यहां पर भी नेताओं में एक राय नहीं बन रही है। अब इंदौर के इन वार्डो का मसला कमलनाथ के पास पहुंच गया है। वे ही अब इस पर अंतिम फैसला करेंगे। इसी तरह भोपाल के वार्ड 28 में भी उम्मीदवार का ऐलान नहीं हो सका है। यहां पर एक पूर्व मंत्री की पसंद से टिकट देना है।