हाथरस
प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना ने लोगों के लिए स्वरोजगार के द्वार खोल दिए हैं। शहर में 2276 लोगों का इससे रोजगार चल रहा है। पहले चरण में इसके तहत दस हजार रुपये की धनराशि दी गई थी। इस ऋण को चुकाने वालों को दूसरे चरण में बीस हजार रुपये का ऋण दिया जा रहा है। इसके लिए अभी तक 1314 आवेदन नगर पालिका को मिले हैं।

स्‍वरोजगार से जुड़ने का जरिया बनी योजना
कोरोना काल में कामकाज ठप थे। लोगों को स्वरोजगार से जोड़ने और बंद पड़े स्वरोजगार को फिर से शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना का शुभारंभ किया गया था। इसके तहत लोगों को दस हजार रुपये आसान प्रक्रिया के तहत ऋण के रूप दी गई। इसका लाभ हाथठेला, चाट-पकौड़ी, फड़ विक्रेता, परचून के दुकानदार सहित छोटे व्यवसाइयों को दिया गया। यह ऋण नगर निकायों के माध्यम से पंजीकरण कराकर बैंको द्वारा सीधे लाभार्थी के बैंक खातों में भेजा गया।

पहले चरण में खुशहाल बने 2276 लोग
पीएम स्वनिधि योजना के पहले चरण में नगर पालिका हाथरस में ने निर्धारित लक्ष्य दो हजार के सापेक्ष 4212 पंजीकरण आनलाइन किए। सत्यापन के बाद 370 आवेदन निरस्त हो गए। 2276 लाभार्थियों को दस हजार रुपये का ऋण दिलाया गया।

दूसरे चरण में 370 को 20 हजार का ऋण
पहले चरण का ऋण चुकाने वाले छोटे व्यवसाइयों को दूसरे चरण में बीस हजार रुपये का ऋण दिया जा रहा है। इसके लिए नगर पालिका हाथरस को 865 का लक्ष्य मिला है। पालिका के अधिकारियों ने बताया कि इसमें अभी तक 1314 आवेदन आ चुके हैं। इनमें से करीब 370 लाभार्थियों को ऋण दिलाया गया है।