भिलाई

भिलाई इस्पात संयंत्र के वायर रॉड मिल में 9 जुलाई को विभागीय राजभाषा कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मुख्य महाप्रबंधक (मर्चेंट मिल एवं वायर रॉड मिल) श्री अजय बेदी उपस्थित थे।
कार्यक्रम में महाप्रबंधक (वायर रॉड मिल) जेबियर बेक, महाप्रबंधक (प्रचालन) श्री राजेश राजधर, महाप्रबंधक  (विद्युत) सुश्री अनुपमा कुमारी, महाप्रबंधक (विद्युत) एवं हिंदी समन्वय अधिकारी श्री प्रणव कुमार, उप महाप्रबंधक (प्रचालन) श्री व्ही श्रीकृष्णा, सहायक प्रबंधक (संपर्क व प्रशासन-राजभाषा) श्री जितेन्द्र दास मानिकपुरी तथा अन्य विभागीय अधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित थे।

मुख्य अतिथि मुख्य महाप्रबंधक (मर्चेंट मिल एवं वायर रॉड मिल) श्री अजय बेदी ने अपने उद्बोधन में कहा कि हिंदी हमारी राजभाषा है और हमारे प्रदेश छत्तीसगढ़ की प्रमुख भाषा है। हमारे समस्त कार्मिक हिंदी बोलने समझने में सुविधा व सहजता का अनुभव करते हैं। हिंदी जन-जन की भाषा है, इसमें कार्य करना गर्व की बात है। पूरे देश को तीन भागों में चिह्नित किया है। हम 'कझ् क्षेत्र में निवासरत हैं, अत: हमें शत-प्रतिशत हिंदी में कार्यव्यवहार करना चाहिए।

कार्यक्रम के प्रारम्भ में उपस्थित अतिथियों का स्वागत विभागीय हिंदी समन्वय अधिकारी श्री प्रणव कुमार ने किया। उन्होंने विभागीय प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए बताया कि, विभाग द्वारा हिंदी में ज्यादातर कार्य हिंदी में संपादित किए जा रहे हैं। कार्यक्रम में सामान्य ज्ञान पर आधारित हिंदी भाषा में प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें उपस्थित अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने हिस्सा लिया। पुरस्कार विजेताओं में शामिल हैं प्रथम पुरस्कार श्री नव कुमार घोष, सीनियर आपरेटर, द्वितीय पुरस्कार श्री सूरज कुमार पंडा तथा तृतीय पुरस्कार श्री ईश्वर कोहले, सहायक रोलर, वायर रॉड मिल थे।

प्रोत्साहन पुरस्कार विजेता रहे- श्री असीम कुमार डे, सीनियर टेक्नीशियन, नितीन शिरखेड़कर, सीनियर टेक्नीशियन (विद्युत) एवं श्री अर्जुन महानंद, वायर रॉड मिल। राजभाषा के सांविधिक प्रावधानों की जानकारी श्री जितेन्द्र दास मानिकपुरी, सहायक प्रबंधक (संपर्क व प्रशासन-राजभाषा) द्वारा दी गई। उन्होंने आनलाइन वॉइस टाइपिंग का प्रदर्शन कर बताया कि, मोबाइल में बोलकर बिना किसी वायर कनेक्शन के सीधे अपने कंप्यूटर पर हिंदी भाषा में आसानी से टाइपिंग कर सकते हैं। उन्होंने आनलाइन नोटशीट सिस्टम सैप में हिंदी में नोटशीट बनाने का भी प्रदर्शन किया। कार्यक्रम का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन महाप्रबंधक (विद्युत) एवं हिंदी समन्वय अधिकारी (वायर रॉड मिल) श्री प्रणव कुमार किया गया।