नई दिल्ली

18 जुलाई से संसद का मानसून सत्र शुरु होनेवाला है। इससे एक दिन पहले मोदी सरकार ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है। संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने रविवार, 17 जुलाई को 11 बजे की बैठक के लिए संसद के दोनों सदनों में सभी राजनीतिक दलों के सदन के नेताओं को आमंत्रित किया है। माना जा रहा है कि इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के अलावा सरकार के कई अन्य मंत्री भी शामिल होंगे। साथ ही बैठक में जेपी नड्डा, राजनाथ सिंह, प्रह्लाद जोशी, अनुप्रिया पटेल, पशुपति पारस, जेडीयू से ललन सिंह, असम गण परिषद से बीरेन वैश्य समेत एनडीए के सभी फ़्लोर लीडर हिस्सा लेंगे। इस सर्वदलीय बैठक में मानसून सत्र के दौरान संसद के एजेंडे पर सभी राजनीतिक दलों के साथ सहमति बनाने की कोशिश की जाएगी, ताकि संसद के दोनों सदनों का कामकाज सुचारू रूप से चल सके।

मानसून सत्र का एजेंडा

संसद का मानसून सत्र 18 जुलाई से शुरू होने जा रहा है और यह 12 अगस्त तक चलेगा। इस सत्र में कई अहम फैसले लिए जाने हैं। इसी सत्र के दौरान राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद का चुनाव भी होना है। संसद के मानसून सत्र के पहले ही दिन, 18 जुलाई को राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होना है, जिसके नतीजों की घोषणा 21 जुलाई को की जाएगी। इस सत्र में सरकार कुछ महत्वपूर्ण विधेयकों को पारित कराने की कोशिश करेगी। इनमें से चार विधेयक ऐसे हैं जो संसदीय समितियों के समक्ष विचारार्थ हैं, और उन्हें पेश किया जा सकता है। वहीं, विपक्ष अग्निपथ योजना, बेरोजगारी, महंगाई, धार्मिक तनाव और जांच एजेंसियों के कथित दुरुपयोग जैसे मुद्दों पर सरकार को घेरने की तैयारी में है।