मुंबई
 महाराष्ट्र कांग्रेस ने अपने 11 विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है जो फ्लोर टेस्ट के दौरान वोटिंग से नदारद रहे थे। खबर है कि महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले इस संबंध में आज कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलेंगे। गौरतलब है कि 4 जुलाई को महाराष्ट्र विधानसभा में हुए फ्लोर टेस्ट में अशोक चव्हाण समेत कांग्रेस के 11 विधायक नदारद रहे थे। इसके बाद से महाराष्ट्र कांग्रेस में फूट की खबरें आने लगी थीं।

कांग्रेस के 11 विधायकों के गैर हाजिर रहने से रविवार को स्पीकर के चुनाव के दौरान महाविकास आघाड़ी (एमवीए) को जहां 107 वोट मिले थे, वहीं सोमवार को गठबंधन की संख्या गिरकर 99 हो गई थी। इसके बाद महाराष्ट्र कांग्रेस में फूट की आशंका तेज हो गई थी। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने चिंता जाहिर करते हुए विधायकों की लापरवाही और अनौपचारिक व्यवहार पर सवाल उठाए।

देर से पहुंचे थे विधानभवन
अशोक चव्हाण ने सफाई देते हुए कहा था कि यह जानबूझकर नहीं था और देर से विधानभवन पहुंचने से चलते वह वोटिंग करने से चूक गए। इसके बाद कांग्रेस के अंदर गुटबाजी के संकेत मिलने लगे और यह भी कहा जाने लगा कि पार्टी गठबंधन से बाहर हो सकती है।

कांग्रेस ने बताया था कोरी अफवाह
दोनों अफवाहों को आधारहीन बताते हुए कांग्रेस के महासचिव एचके पाटिल ने कहा था, 'कांग्रेस एनसीपी और शिवसेना को समर्थन देती रहेगी। प्रथम दृष्टया यह मालूम होता है कि बीजेपी के ऑपरेशन लोटस के कारण एमवीए सरकार गिर गई। कांग्रेस ने स्पीकर के चुनाव के लिए न सिर्फ एमवीए उम्मीदवार को समर्थन दिया बल्कि फ्लोर टेस्ट में सरकार के खिलाफ वोट दिया।'