जगदलपुर
बस्तर के तिरिया के वर्ष 2019 में हुई मुठभेड़ में नक्सली नेता अक्किराजू हरगोपाल उर्फ रामकृष्ण उर्फ आरके की बरामद डायरी के आधार पर एनआईए ने मंगलवार को आंध्रप्रदेश में तीन अलग-अलग स्थानों पर छापा मारकर कई आपत्ति जनक दस्तावेज और इलेक्ट्रॉनिक सबूत जब्त किए है।

एनआईए ने इस सम्बंध में बयान जारी कर बताया है कि बस्तर जिले के तिरियां के जंगलों में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के मध्य 25 जुलाई 2019 को जो मुठभेड़ हुई थी, उसमें 06 नक्सली और एक ग्रामीण मारे गए थे। इस मुठभेड़ में नक्सलियों के केंद्रीय कमेटी का नेता आरके उर्फ अविकराजू हरगोपाल बाल बाल बच गया था। मुठभेड़ के बाद बड़ी संख्या में हथियार, गोलाबारूद और नक्सली साहित्य बरामद हुआ था। नक्सली नेता आरके की एक डायरी भी घटनास्थल पर बरामद हुई थी जिसमें तेलगु में कई लोगो के नाम और उनके द्वारा दी गई राशि अंकित थी। सभी आंध्रप्रदेश और तेलंगाना के निवासी है। बता दें कि नक्सली नेता आरके उर्फ रामकृष्ण पिछले चार दशक से नक्सल संगठन में सक्रिय था।

छत्तीसगढ़ पुलिस को शक है कि इस डायरी में नक्सलियों के अर्बन नेटवर्क की जानकारी है इसलिए पुलिस ने इस मामले की जांच एनआईए को सौंप दी थी। बताया जाता है कि डायरी में दर्ज लोगो को एनआईए ने नोटिस भी जारी किया था, लेकिन कोविड का बहाना बनाकर लोग टाल-मटोल करते रहे। इसके बाद एनआईए ने मंगलवार को आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा और प्रकाशम जिले में छापा मारकर कई महत्वपूर्ण सबूत जब्त करने का दावा किया है। एनआईए अधिकारियों ने इनके नाम तो जाहिर नही किये है। आंध्रप्रदेश के पुलिस सूत्रों के मुताबिक विजयवाड़ा में नक्सली नेता आरके के घर में भी एनआईए का छापा पड़ा है, इसके अलावा एक ठेकेदार और एक सप्लायर के यहां भी एनआईए की दबिश दिए जाने की जानकारी मिली है।