शिवपुरी

खनियाधाना नायब तहसीलदार सुधाकर तिवारी को लोकायुक्त टीम ने 1 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। सरपंच को जीत का प्रमाण पत्र देने के लिए नायब तहसीलदार ने डेढ़ लाख रुपए मांगे थे और एक लाख नगद लेते उसे संभागीय लोकायुक्त टीम ने पकड़ा गया है। लोकायुक्त पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम बरसोला तहसील खनियाधाना के रहने वाले उमाशंकर लोधी ने शिकायत की थी कि नायब तहसीलदार प्रभारी तहसील खनियाधाना सुधाकर तिवारी ने उनसे रिश्वत की मांग की है। आवेदक सरपंच के पद पर विजयी हुआ था जिसके प्रमाण पत्र के लिए आरोपी आवेदक से 1,50,000 की रिश्वत मांग रहा था। आज आरोपी द्वारा एक लाख की रिश्वत देना तय किया गया था और लोकायुक्त की टीम पहले से मौके पर मौजूद थी। आरोपी को रिश्वत राशि लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया है।  इस मामले में कांग्रेस ने बीजेपी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए आरोप लगाया है कि सरकार और नौकरशाह का गठजोड़ लोकतंत्र को खरीद रहा है।