नई दिल्ली
 
विंडफॉल टैक्स में कटौती के बाद ऑयल कंपनियों के शेयरों में तेजी है। शुरुआती कारोबार में निफ्टी ऑयल एंड गैस इंडेक्स में करीब दो प्रतिशत का उछाल है। OIL में 7.56 फीसद की बढ़ोतरी दिख रही है तो ओएनजीसी 5.67 फीसद ऊपर कारोबार कर रहा है। गेल में 4.81 फीसद तो रिलायंस 2.67 फीसद ऊपर है।

इसी तरह आईओसी, एमजीएल, आईजीएल, बीपीसीएल, पेट्रोनेट जैसे स्टॉक में बड़ी बढ़त दिख रही है। केवल अडानी गैस और हिन्दपेट्रो ही लाल निशान पर हैं।बता दें सरकार ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दाम घटने से पेट्रोल, डीज़ल, जेट ईंधन, कच्चे तेल पर लगने वाले अप्रत्याशित लाभ करों में कटौती की अधिसूचना जारी कर दी है।

एक सरकारी आदेश के अनुसार, केंद्र सरकार ने इस महीने की शुरुआत में कच्चे तेल पर लगाए गए विंडफॉल टैक्स को लगभग 27% घटाकर 17,000 रुपये प्रति टन कर दिया है। विशेष अतिरिक्त उत्पाद शुल्क के रूप में लगाया जाने वाला कर पहले 23,250 रुपये प्रति टन था।

क्या है विंडफॉल टैक्स
विंडफॉल टैक्स ऐसी कंपनियों पर लगाया जाता है, जिन्हें किसी खास तरह के हालात से फायदा होता है। यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमत में काफी तेजी आई थी। इससे तेल कंपनियों को काफी फायदा मिला था, लेकिन दुनिया में मंदी की आशंका के चलते हाल में कच्चे तेल 100 डॉलर प्रति बैरल से नीचे आ गया है। इस वजह से सरकार ने विंडफॉल टैक्स में कटौती की है। अब कंपनियों को डीजल और एटीएफ के एक्सपोर्ट के लिए 11 रुपये का अतिरिक्‍त टैक्‍स चुकाना होगा। वहीं, पेट्रोल के निर्यात पर लगे छह रुपये प्रति लीटर के टैक्‍स को पूरी तरह खत्‍म कर दिया गया है।