मुंबई।
 
उद्धव ठाकरे पर बीजेपी नेता किरीट सोमैया के तीखे हमले को लेकर एकनाथ शिंदे खेमे और बीजेपी के बीच दरार आ गई है। शिंदे खेमे के प्रवक्ता दीपक केसरकर और बुलढाणा के विधायक संजय गायकवाड़ ने सोमैया पर तंज कसते हुए भाजपा से ठाकरे को निशाना न बनाने की चेतावनी देने को कहा। गायकवाड़ ने कहा कि उन्हें सरकार की परवाह नहीं है, लेकिन ठाकरे के खिलाफ किसी भी व्यक्तिगत हमले को बर्दाश्त नहीं करेंगे।

केसरकर और गायकवाड़ सोमैया के उस ट्वीट पर भड़क गए थे जिसमें उन्होंने कहा था, '''रिक्शावाला' के सीएम एकनाथ शिंदे से आज मंत्रालय में नील सोमैया ने मुलाकात की और उन्हें शुभकामनाएं दीं। माफिया सीएम को बदलने के लिए उन्हें धन्यवाद दिया।'' शिंदे खेमे के प्रवक्ता केसरकर ने कहा, 'हम सोमैया द्वारा उद्धव ठाकरे के खिलाफ इस्तेमाल किए गए शब्दों से सहमत नहीं हैं। ऐसे शब्दों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इस पर टिप्पणी करने की जरूरत नहीं है। मैंने पहले ही मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और अन्य विधायकों से उद्धव ठाकरे की आलोचना या कोई बयान नहीं देने का अनुरोध किया है।'' उन्होंने आगे कहा, ''हम उद्धव ठाकरे के खिलाफ सोमैया की आलोचना के बारे में फडणवीस बताए हैं। उम्मीद है कि फडणवीस सोमैया से कहें कि उद्धव ठाकरे के खिलाफ व्यक्तिगत टिप्पणी न करें। जो हुआ वह हमें पसंद नहीं आया।''
 
दूसरी ओर, सोमैया के कटु आलोचक रहे गायकवाड़ ने चेतावनी दी है कि वे ठाकरे परिवार के खिलाफ आलोचना बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने कहा, ''सोमैया को ध्यान रखना चाहिए कि हम ठाकरे परिवार पर उनके हमले को बर्दाश्त नहीं करेंगे। अगर सोमैया ठाकरे परिवार के खिलाफ अपना बयान जारी रखते हैं तो हमें सत्ता की परवाह नहीं होगी।''

उन्होंने कहा, ''किरीट सोमैया को यह नहीं सोचना चाहिए कि विधायक शिवसेना से अलग हो गए हैं या अलग गुट बना लिया है। हम शिवसेना हैं। सोमैया को यह नहीं सोचना चाहिए कि हमने बालासाहेब ठाकरे, उद्धव ठाकरे, आदित्य ठाकरे के प्रति अपनी वफादारी छोड़ दी है और हम उन्हें कोसते हुए अलग हो जाएंगे।''