गुरुग्राम
 नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) का अंदाज निराला है। वह बोलते बेबाक हैं और जो करते हैं वो भी सबसे अलग होता है। मोदी सरकार 2.0 में सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय संभाल रहे गडकरी एक बार फिर चर्चा में हैं। बिना उद्घाटन के ही उन्होंने एक हाइवे पर यातायात शुरू करा दिया। आमतौर पर ऐसी परंपरा रही है कि संबंधित मंत्री या कोई अन्य गणमान्य व्यक्ति औपचारिक रूप से नारियल फोड़ता है या फीता काटकर उद्घाटन करता है तब हाइवे पर गाड़ियां दौड़ती हैं। लेकिन 22 किमी लंबे छह लेन वाले सोहना हाइवे के उद्घाटन को लेकर अनिश्चितता पैदा हुई तो सोमवार को केंद्रीय मंत्री गडकरी के निर्देश पर हाइवे को खोल दिया गया। अब गुरुग्राम के दक्षिणी छोर तक पहुंचने के लिए लोगों को सिग्नल फ्री रोड मिल गई है।

 

वैसे, तकनीकी रूप से यह ट्रायल रन होगा जबतक कि रोड का औपचारिक उद्घाटन नहीं हो जाता, लेकिन गाड़ी वालों को चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि वे 20 मिनट में तेज रफ्तार से सोहना आ जा सकते हैं। जैसे ही परमिशन मिली, हाइवे पर जाने वाले शुरुआती लोगों में अनीश दास भी थे। उन्होंने बताया, 'मौसम बारिश का बन गया था तो मैंने सोचा कि दमदमा लेक घूमकर आया जाए और मैंने नया हाइवे पकड़ा। 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार शानदार थी। बादशाहपुर और सोहना चौक के बीच, आप हिल्स का भी खूबसूरत नजारा देख सकते हैं।'

 

गडकरी ने खुद शेयर की तस्वीर।

दरअसल, गडकरी सोमवार को हाइवे का उद्घाटन करने वाले थे, लेकिन कार्यक्रम को स्थगित कर दिया गया। अटकलें लगाई जाने लगीं कि हाइवे को यातायात के लिए अब बाद में खोला जाएगा। हालांकि गडकरी ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) से कहा कि औपचारिक रूप से उद्घाटन की तारीख का इंतजार किए बगैर ट्रायल के लिए रोड को खोल दिया जाए।

सोमवार सुबह, जैसे ही गडकरी ने ट्विटर पर सोहना हाइवे के बारे में पोस्ट किया, NHAI ने रोड के पैकेज-1 राजीव चौक से बादशाहपुर 8.9 किमी के हिस्से को खोल दिया। दूसरा सेक्शन पैकेज-2 (बादशाहपुर से सोहना) एक अप्रैल को ही खोल दिया गया था। एलिवेटेड कॉरिडोर 7 किमी का है और यह अलग-अलग हिस्से में है, सबसे लंबा 4 किमी गुड़गांव में है जहां से हाइवे शुरू होता है।