हल्द्वानी
हल्द्वानी के हिंसाग्रस्त वनभूलपुरा इलाके में कैश बांटते हुए हिरासत में लिए गए सलमान खान को लेकर कई तथ्य सामने आ रहे हैं। हैदराबाद से आकर हल्द्वानी में नोटों की गड्डियां बांटने वाले सलमान ने जहर फैलाने की भी भरसक कोशिश की। सोशल मीडिया पर लाखों फॉलोअर्स वाले सलमान खान ने हिंसा को 'हिंदू-मुस्लिम' रंग देने का प्रयास किया। इंस्टाग्राम पर उसने कई वीडियो साझा किए जिसमें गलत और भ्रामक दावे किए गए हैं।

हैदराबाद यूथ करेज (एचवाईसी) नाम का एनजीओ चलाने वाले सलमान खान ने एक के बाद एक कई वीडियो साझा करते हुए हल्द्वानी हिंसा को मुसलमानों पर अत्याचार के रूप में पेश किया गया। एक वीडियो में तो यह भी दावा करता दिखता है कि हिंदुओं की भीड़ ने पुलिस के साथ मिलकर मुसलमानों को गालियां दीं। एक अन्य वीडियो में उसने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की तस्वीर का इस्तेमाल करते हुए कहा कि मुसलमानों को गोलियों मारने का आदेश दिया गया। जबकि सच यह है कि डीएम की ओर से यह आदेश उपद्रवियों के खिलाफ दिया गया था।

सलमान खान के इंस्टाग्राम पर कई ऐसे वीडियो मौजूद हैं जिनमें भड़काऊ बातें कहीं गई हैं। उसे एक वीडियो में कथित मदरसे पर चलते बुलडोजर और बाद में उन्हें जलते हुए दिखाया गया और एक्शन-रिएक्शन लिखा। सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट करने वाला सलमान अब हल्द्वानी में नोट बांटने निकला था। उसने इसका एक वीडियो भी इंस्टाग्राम पर साझा किया है। इसमें वह गलियों और घरों में जाकर लोगों को नोट बांटता दिखता है। पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की तो वह कोई हिसाब नहीं दे सका। पुलिस उसके सोशल मीडिया अकाउंट्स को भी खंगाल रही है।

फिलहाल सलमान को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया है। लेकिन पुलिस उसके खिलाफ जांच में जुटी है। नए तथ्यों के आलोक में पुलिस उसे दोबारा पूछताछ के लिए बुला सकती है। इससे पहले बुधवार को एसएसपी नैनीताल प्रह्लाद नारायण मीणा ने कहा कि वनभूलपुरा क्षेत्र में पैसे बांट रहे एक युवक को पूछताछ के लिए बुलाया गया है। कहां से आया और पैसे कहां से आए आदि की जानकारी जुटाई जा रही है।