भोपाल

राजधानी के एक क्रेशर प्लांट मालिक ने अपने ममेरे भाई को प्लांट का मैनेजर बना दिया। माल भेजने से लेकर वसूली तक की जिम्मेदारी मैनेजर को दी गई। इसी भरोसे का फायदा उठाकर आरोपी ने बीते एक साल में करीब 15 लाख रुपए का गबन कर लिया। पिछले दिनों जब गबन का खुलासा हुआ तो क्रेशर के मालिक ने उससे हिसाब मांगा और रकम जमा करने की बात कही। इस पर आरोपी ने धमकी दी कि अब रकम मांगी तो तू जिंदा रहेगा या मैं। लिहाजा फरियादी ने आरोपी के  खिलाफ धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं के तहत दर्ज करा दिया। पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है।

ऑडिट के दौरान हुआ फर्जीवाड़े का खुलासा
टीला जमालपुरा टीआई आरएस रैंगर के अनुसार शराब ठेकेदार अशोक शिवहरे एमआईजी-1 शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में रहते हैं। उनका बेटा 34 वर्षीय विशाल शिवहरे रतुआ स्थित क्रेशर प्लांट का संचालन करता है। जिसमें बतौर मैनेजर अमित शिवहरे कार्यरत हंै। अमित-विशाल का ममेरा भाई है। अमित पर क्रेशर का पूरा हिसाब किताब रखने की जिम्मेदारी थी। माल की डिलेवरी से लेकर रकम की वसूली तक का काम अमित को सौंपा गया था। अमित विगत वर्ष 15 जनवरी से पिछले महीने तक हिसाब में गड़बड़ी कर कलेक्शन की रकम में हेरफेर कर पैसा हड़पने का काम कर रहा था।

जान से मारने की धमकी
पिछले दिनों ऑडिट के दौरान अमित का फर्जीवाड़ा पकड़ा गया। उसे नौकरी से निकाल दिया गया। हड़पी रकम की मांग की गई। तब आरोपी ने फरियादी को ही जान से मारने की धमकी दे डाली। उसके साथ जमकर बदसलूकी की। आरोपी भी विशाल के घर के पास ही रहता है। विशाल ने पिछले दिनों मामले की शिकायत थाना टीला जमालपुरा में की। शिकायत जांच के बाद पुलिस ने बीती रात प्रकरण दर्ज कर लिया है। टीआई ने बताया कि विशाल का ऑफिस शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में ही स्थित है, पूरा हेरफेर इसी कार्यालय से बैठकर अंजाम दिया गया है।