नई दिल्ली
भारत के खिलाफ पांचवें टेस्ट मैच के दौरान दर्शकों के साथ नस्लवाद के आरोपों के बीच बर्मिंघम पुलिस ने एक प्रशंसक को "नस्लीय रूप से सार्वजनिक व्यवस्था के उल्लंघन" के लिए गिरफ्तार कर लिया है। एजबेस्टन टेस्ट के चौथे दिन के खेल के दौरान कई भारतीय समर्थकों ने नस्लीय दुर्व्यवहार की घटनाओं का आरोप लगाया था। इंग्लैंड की टीम ने इस मैच को जीतकर सीरीज 2-2 से बराबर की। बर्मिंघम पुलिस ने एक बयान में कहा, "सोमवार को बर्मिंघम में टेस्ट मैच में नस्लवादी, अपमानजनक व्यवहार की रिपोर्ट के बाद एक 32 वर्षीय व्यक्ति को नस्लीय रूप से सार्वजनिक आदेश का उल्लंघन करने के अपराध के लिए गिरफ्तार किया गया है।"

अंतिम टेस्ट के चौथे दिन भारतीय प्रशंसकों की नस्लीय दुर्व्यवहार की शिकायत के बाद इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) और वारविकशर काउंटी क्रिकेट क्लब द्वारा इस घटना की जांच शुरू की गई है। आगे ऐसे मामलों से निपटने के लिए वारविकशर ने एजबेस्टन स्टेडियम में खेले जाने वाले दूसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय के दौरान ‘फुटबॉल क्राउड-स्टाइल स्पॉटर्स (दशकों की तरह मौजूद रहने वाले जांचकर्ता)' को तैनात करने का फैसला किया। ये अधिकारी ऐसी घटनाओं की जानकारी देंगे।''

इससे पहले दर्शकों के साथ नस्लवाद के आरोपों के बीच इंग्लैंड के कप्तान बेन स्टोक्स ने अपना पक्ष रखा था। उन्होंने कहा कि खेलों में नस्लवाद के लिए कोई जगह नहीं है।