मुंबई
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने महाराष्ट्र में आगामी स्थानीय निकाय चुनावों में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के उम्मीदवारों को 27 प्रतिशत सीटें देने का फैसला किया है। राज्य चुनाव आयोग (एसईसी) ने शुक्रवार को घोषणा की थी कि महाराष्ट्र में 92 नगर परिषदों और चार नगर पंचायतों (अर्ध-शहरी क्षेत्रों में छोटे शहरों को नियंत्रित करने वाले निकाय) के चुनाव 18 अगस्त को होंगे।

इन नगर निकायों के चुनावों में ओबीसी आरक्षण का कोई प्रावधान नहीं किया गया है क्योंकि इससे संबंधित मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। पाटिल ने ट्वीट किया, "चूंकि यह महत्वपूर्ण है कि ओबीसी समुदाय को न्याय मिले, राकांपा ने स्थानीय निकाय चुनावों में कुल सीटों का 27 प्रतिशत समुदाय के उम्मीदवारों को देने का फैसला किया है।"

सुप्रीम कोर्ट ने अनुभवजन्य आंकड़ों के अभाव में राज्य में स्थानीय निकायों में ओबीसी आरक्षण को बहाल करने से इनकार कर दिया था। पाटिल ने कहा कि ओबीसी कोटा के संबंध में शीर्ष अदालत के फैसले का इंतजार किया जा रहा है और उनकी पार्टी यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास करेगी कि स्थानीय स्वशासी निकायों में पिछड़े समुदायों को राजनीतिक आरक्षण मिले।

भाजपा ने पहले स्थानीय निकाय चुनाव कराने का विरोध किया था, जब तक कि पिछले साल मार्च में सुप्रीम कोर्ट द्वारा ओबीसी कोटा बहाल नहीं किया गया था। पार्टी अब राज्य में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले शिवसेना गुट के साथ सत्ता में है।

पुणे, सांगली, सोलापुर, कोल्हापुर, नासिक, धुले, नंदुरबार, जलगांव, अहमदनगर, औरंगाबाद, जालना, बीड, उस्मानाबाद, लातूर, अमरावती और बुलढाणा जिलों में स्थानीय शहरी निकायों के लिए 18 अगस्त को मतदान होगा। मतगणना 19 अगस्त को होगी।