नई दिल्ली
बर्मिंघम टी20 में 5 महीने बाद वापसी करने वाले विराट कोहली बल्लेबाजी में एकबार फिर से असफल रहे। उन्होंने केवल 1 रन बनाए और डेब्यूटांट रिचर्ड ग्लीसन की गेंद पर आउट हुए। उनकी फार्म को लेकर इसलिए भी ज्यादा चर्चा हो रही है क्योंकि दूसरे मैच में उनके इनफार्म बल्लेबाज दीपक हुड्डा की जगह पर प्लेइंग इलेवन में शामिल किया गया था। हाल ही में द ग्रेट कपिल देव ने विराट कोहली के ऊपर टिप्पणी करते हुए कहा था कि जब वर्ल्ड नंबर 2 गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन को टेस्ट टीम में जगह नहीं मिल सकती तो आखिर टी20 में विराट कोहली को क्यों नहीं बाहर बिठाया जा सकता है।

कपिल देव की इस टिप्पणी पर विराट कोहली के शुरुआती कोच राजकुमार शर्मा भड़क गए हैं। वह कपिल देव की इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते हैं कि कोहली के स्थान पर युवा खिलाड़ियों को मौका देना चाहिए। खराब फार्म के बावजूद राजकुमार शर्मा ने कोहली का समर्थन करते हुए कहा कि वो कपिल देव की इस बात से असहमत हैं। उनके अनुसार 70 अंतर्राष्ट्रीय शतक उनकी बल्लेबाजी कौशल का प्रमाण है।

राजकुमार शर्मा ने एएनआई से बात करते हुए कहा कि "मैं विराट कोहली पर कपिल देव द्वारा दिए गए बयान का समर्थन नहीं करता। विराट के साथ कुछ भी ऐसा बड़ा नहीं हुआ है कि इस तरह का बयान जारी किया जाए। विराट के साथ इतनी जल्दी क्यों है, उन्होंने देश के लिए इतना अच्छा किया है। 70 अंतर्राष्ट्रीय शतक बनाना कोई छोटी बात नहीं है। मुझे नहीं लगता कि बोर्ड उन्हें बेंच पर बैठाने का फैसला करेगा"

विराट एजबेस्टन टेस्ट में भी असफल रहे थे। उन्होंने वहां पहली पारी में 11 जबकि दूसरी पारी में 20 रन बनाए थे। इतना ही नहीं 2019 से उनके बल्ले से क्रिकेट फैंस को शतक का इंतजार है। लेकिन उनका यह इंतजार बढ़ता जा रहा है। उम्मीद है कि तीसरे और आखिरी टी20 मैच में विराट अपने बल्ले का दम जरूर दिखाएंगे।