मुरादाबाद
 कोरोना काल में दो साल बंद रही कांवड़ यात्रा में भीड़ उमड़ने की संभावनाओं के मद्देनजर रेलवे ने एक्शन प्लान पर अमल शुरू कर दिया है। हरिद्वार से गंगाजल लाने वाले कांवड़ियों के लिए रेलवे ट्रेनों को विस्तार देगा। दिल्ली से शामली डीएमयू और दिल्ली-सहारनपुर मेमू को हरिद्वार तक चलाया जाएगा। ट्रेनों को 13 से 27 जुलाई तक चलाने की तैयारी है। मुरादाबाद रेल प्रशासन ने रेलवे बोर्ड को प्रस्ताव भेजा है।

पुलिस प्रशासन के साथ रेल प्रशासन ने भी कांवड़ यात्रा के लिए एक्शन प्लान तैयार किया है। उत्तराखंड सरकार ने दो साल से बंद यात्रा में अबकी ज्यादा कांवड़ियों के हरिद्वार पहुंचने की उम्मीद जताई है। उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक ने 2019 में 3.30 करोड़ श्रद्धालुओं के हरिद्वार पहुंचने का ब्योरा देते हुए इस बार सुविधा और सुरक्षा व्यवस्था को लेकर प्लान तैयार करने को कहा। राज्य सरकार और रेलवे के बीच गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग में योजना पर मंथन किया गया। रेलवे ने उत्तराखंड सरकार की मंशा को देखते हुए स्पेशल ट्रेन चलाने की बजाय कई ट्रेनों को हरिद्वार तक विस्तार देने का खाका तैयार किया है। इनमें दिल्ली-शामली डीएमयू(04465-66) को विस्तार देते हुए हरिद्वार तक चलाया जाएगा।

भारतीय रेलवे के अनुसार दिल्ली से रात आठ बजे चलने वाली डीएमयू शामली के आगे थाना भवन, रामपुर मनिहारन, टपरी, रुड़की, ज्वालापुर से हरिद्वार जाएगी। इसी तरह रेल मंडल में दिल्ली-सहारपुर पैसेंजर (04403-04) ट्रेन को भी विस्तार देते हुए रुड़की, ज्वालापुर और हरिद्वार तक चलाया जाएगा। ट्रेन शाम को 4:45 बजे चलकर रात 11:40 बजे हरिद्वार पहुंचेगी। ट्रेनों को 14 से 27 जुलाई तक चलाने की योजना है। हरिद्वार में कांवड़ यात्रा के लिए रिजर्व में खाली कोचों के रैक भी रहेंगे ताकि भीड़ बढ़ने पर ट्रेनें डिमांड पर चलाई जा सकें।

हरिद्वार में आरपीएफ के डेढ़ सौ जवान समेत अतिरिक्त स्टाफ
सीनियर डीसीएम सुधीर सिंह ने बताया कि सावन मास में कांवड़ियों की सुविधा के मद्देनजर हरिद्वार समेत अन्य प्रमुख स्टेशनों पर अतिरिक्त स्टाफ का इंतजाम किया गया है। इसमें अकेले टिकट वितरण व्यवस्था के मद्देनजर 35 कर्मी रहेंगे। जबकि सुरक्षा के लिए आरपीएफ के डेढ़ सौ कर्मियों की कांवड़ यात्रा के चलते तैनात किया जा रहा है। स्टेशन पर साफ सफाई से लेकर बिजली पानी के समुचित इंतजाम किए जा रहे हैं।