कानपुर
 दुर्दांत अपराधी विकास दुबे व उसके रिश्तेदारों की लखनऊ स्थित संपत्तियां भी सील करके कुर्क की जाएंगी। इसके लिए डीएम विशाख जी ने लखनऊ जिलाधिकारी को पत्र भेजा है। इसमें अपराधी की संपत्ति को कुर्क करने का हवाला दिया गया है। इससे पहले कानपुर व कानपुर देहात की संपत्ति कुर्क करके सील की जा चुकी है।

बिकरू कांड के विकास दुबे, उसकी पत्नी रिचा दुबे समेत अन्य रिश्तेदारों की संपत्तियां कानपुर, लखनऊ और कानपुर देहात में हैं। पूर्व डीएम नेहा शर्मा ने चौबेपुर पुलिस की रिपोर्ट पर विकास दुबे की संपत्तियों को कुर्क करके सील करने का आदेश दिया था। जिस पर लगातार कार्रवाई हो रही है। कानपुर में करीब 12 संपत्तियां सील की जा चुकी हैं। सिर्फ एक मतैयापुरवा की संपत्ति बची है। उसका मामला हाईकोर्ट में चल रहा है। कानपुर देहात की संपत्तियां भी सील हो चुकी हैं। अभी तक लखनऊ की संपत्ति सील नहीं की जा सकी हैं। इसके लिए रिव्यु करने के बाद डीएम ने पूरी जानकारी हासिल की है।

जिलाधिकारी विशाख जी ने बताया कि डीएम लखनऊ को पूर्व डीएम की ओर से जारी आदेश के साथ रिमांडर भेजा गया है। जिससे लखनऊ की संपत्तियां भी कुर्क हो सकें। 50 करोड़ की जब्त संपित्तयों में विकास दुबे के नाम बिकरू, भीटी और सकरवां में कृषि भूमि व खंडहर मकान, रिचा दुबे के नाम चौबेपुर पक्खन में वर्ष 2015 में खरीदा प्लाट और मालौं में वर्ष 2014 में खरीदा गया। आवासीय प्लाट बहन चंद्रकाता तिवारी के नाम बसेन व बिकरू में कृषि भूमि, भांजे अमन, गगन, पवन व कुलदीप के नाम पर रामपुर सखरेज में कृषि भूमि, बहन रेखा देवी के नाम बिल्हौर के खोदन में कृषि भूमि है।