ग्वालियर

जीवाजी विश्वविद्यालय के विभागों में रिक्त पदों पर प्रतिनियुक्त पर सरकारी महाविद्यालयों के शिक्षकों की सेवाएं लेने उच्च शिक्षा विभाग को कुलसचिव ने पत्र भेजा है। निकट भविष्य में होने वाले ‘नैक’ के निरीक्षण के बहाने कॉलेजों के शिक्षकों के लिए जेयू में नियुक्ति का रास्ता खोला जा रहा। यही बजह है कि जीवाजी यूनिवर्सिटी टीचर्स एसोसिएशन (जूटा) ने इस पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराते हुए खुलकर विरोध शुरू कर दिया है। इस संबंध में शुक्रवार को विवि के जूलॉजी विभाग में शिक्षकों की बैठक हुई। इसमें यह बात सामने आई कि  अधिनियम, परिनियम, अध्यादेश में कहीं उल्लेख नहीं है कि महाविद्यालयों के शिक्षकों को प्रतिनियुक्ति पर विश्वविद्यालयों के विभागों में नियुक्त किया जाए। वावजूद इसके जेयू की तरफ से उच्च शिक्षा विभाग को पत्र भेज दिया है,जिसमें विवि के सात विभागों में प्रतिनियुक्ति पर कॉलेजों के शिक्षकों की मांग की गई है। जूटा के शिक्षकों ने निर्णय लिया है कि इसके विरोध में कुलपति प्रो.अविनाश तिवारी को ज्ञापन सौंपा जाएगा। पत्र वापस नहीं लिया तो जूटा द्वारा आंदोलन की रणनीति बनाई जाएगी।