रायपुर
मेफेयर रिसोर्ट में झारखंड के विधायकों ने गुरुवार देर शाम पत्रकारवार्ता करके कहा कि हेमंत सोरेन सरकार ) स्थिर है। मुख्यमंत्री ने इस्तीफा नहीं दिया है। भारी सुरक्षा के बीच विधायक स्टीफन मरांडी, दीपिका पांडे, सुदिव्य सोनू, भूषण बाड़ा, झारखंड कांग्रेस के प्रदेशध्यक्ष राजेश ठाकुर ने संयुक्त पत्रकारवार्ता में झारखंड सरकार के जनता के हित में लिए फैसलों की जानकारी दी। मीडिया ने जब यह सवाल किया कि क्या विधायक बिकते हैं, लोकतंत्र में चुने हुए प्रतिनिधि क्या पैसे से बिक जाते हैं तो स्टीफन मंराडी ने कहा कि महाराष्ट्र में क्या हुआ, पता है कि नहीं।

सोनू ने कहा, खरीदने लालों की आंख में आंख डालकर पूछने की ताकत है
दीपिका पांडेय ने कहा कि आपके घर में चोरी का डर होगा तो घर का ताला मजबूत लगाएंगे कि नहीं। हम लोग बहुमत की सरकार को बचाना चाहते हैं और यह हमारा अधिकार है कि हम लोकतंत्र की रक्षा करें। उन्होंने कहा कि हम 50 से ज्यादा विधायक हैं, लेकिन हमारी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है, जो शर्मनाक है। विधायक सुदिव्य सोनू ने कहा कि खरीदने वालों की आंख में आंख डालकर सवाल पूछने की ताकत है। वो जो थैलियों में पैसे लेकर घूम रहे हैं, क्या उनसे पूछने की ताकत है।

दीपिका ने कहा, हम प्राइवेसी के लिए यहां आए
छत्तीसगढ़ आने के सवाल पर दीपिका ने कहा कि हम अपनी प्राइवेसी के लिए यहां आए हैं। हम अपने दम पर रहने वाले लोग हैं। आपको सोचना चाहिए कि आखिर क्या मजबूरी है कि विधायकों को यहां आना पड़ रहा है। यह सवाल तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से पूछना चाहिए। हम गंभीर विधायक हैं। आज हमें तोड़ने का प्रयास हो रहा है। अपनी एकजुटता को दिखाने के लिए यहां आए हैं। भाजपा ने आरोप लगाया कि झारखंड के विधायक यहां पिकनिक मना रहे हैं, इस पर दीपिका ने कहा कि भाजपा के लोगों को कुछ भी कहने का अधिकार नहीं है। महाराष्ट्र में भी जो हुआ, उस पर भाजपा से सवाल पूछना चाहिए। हम यहां हैं, लेकिन झारखंड में जनहित के काम हो रहे हैं। गुरुवार को कैबिनेट में जो फैसले लिए गए, उससे झारखंड की जनता खुशी मना रही है। हम उनकी खुशी में शामिल नहीं हो पा रहे हैं। आज हम आपके सामने एकता दिखाने के लिए आए हैं।

स्टीफन मरांडी बोले, झारखंड में हमारी सरकार
विधायक स्टीफन मरांडी ने कहा कि मीडिया में यह प्रचारित किया जा रहा है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इस्तीफा दे दिया। मुख्यमंत्री ने इस्तीफा नहीं दिया है। झारखंड में अब भी हमारी सरकार है और मुख्यमंत्री रोज फैसले ले रहे हैं। हम सरकार में रहकर केंद्र सरकार की सभी योजनाओं पर काम कर रहे हैं, इसके बाद भी केंद्र सरकार सौतेला व्यवहार कर रही है। सवाल यह है कि देश में परिस्थितियां क्या बनाई जाती हैं, ईडी व आइटी का डर दिखाया जाता है। हम डरने वाले नहीं हैं।