निर्वाचन कार्य मे नगर पंचायत कार्यकर्ताओं की ग्रामीण क्षेत्रों पर लगाई जा रही ड्यूटी

अमरपाटन
विकासखंड अंतर्गत कम वेतनमान पर करने वाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से  स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ अन्य विभाग का काम लिया जाता है।  कही जनगणना तो कहीं निर्वाचन कार्य में जबरजस्ती ड्यूटी लगाई जा रही है। जिन्हें वेतन 10,000 तो काम 50,000 का लिया जा रहा। जबकि निर्वाचन आयोग द्वारा प्रथम चरण के हुए चुनाव में महिला कर्मचारियों की ड्यूटी निर्वाचन संबंधी नहीं लगाई गई थी। विकट परिस्थितियों में ही महिला कर्मचारियों को निर्वाचन कार्य मे लगाया जाता है।

वही दूसरी तरफ अन्य विभागों में बैठे पुरुष तथा महिला कर्मचारियों की ड्यूटी नहीं लगाई गई। केवल और केवल आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को ही उपयोग किया जाता है। ऐसे में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं में भारी आक्रोश देखने को मिल रहा है। बीपी, शुगर, हार्ट, कैंसर जैसे बीमारियों से जूझ रही कुछ कार्यकर्ताओं द्वारा अपनी परिस्थिति की बात अधिकारियों के दबाव के कारण नहीं बोल पाती हैं। यह बहुत ही अन्याय पूर्ण व्यवहार हो रहा है जबकि निर्वाचन अधिकारी द्वारा जारी आदेश में स्पष्ट बताया गया है कि ग्रामीण क्षेत्रों के आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी अपने आंगनवाड़ी केंद्र अंतर्गत पर्ची वितरण का कार्य किया जाना है वरिष्ठ अधिकारियों से अनुरोध है कि नगर पंचायत की कार्यकर्ताओं के साथ नगर पंचायत अंतर्गत ही काम लिया जाए क्योकि दूर दराज डयूटी लगने के कारण विभाग का भी काम प्रभावित होता है।