लीसेस्टर
 फर्स्ट क्लास क्रिकेट में तिहरा शतक बनाना बड़ी उपलब्धि होती है। 400 का स्कोर तो बल्लेबाज गिने चुने मौकों पर ही बना पाए हैं। ऐसा ही एक कारनामा इंग्लैंड की काउंटी क्रिकेट में हो गया है। ग्लेमोर्गन के बल्लेबाज सैम नॉर्थईस्ट (Sam Northeast) ने लीसेस्टरशायर के खिलाफ 410 रनों की नाबाद पारी खेल दी है। वह काउंटी क्रिकेट में ऐसा करने वाले चौथे बल्लेबाज हैं। उनसे पहले ब्रायन लारा, एसी मैक्लारेन और ग्रीम हिक ही एक पारी में 400 से ज्यादा रन बना पाए थे।

18 साल बाद बना 400 का स्कोर
फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 18 साल बाद 400 का स्कोर बना है। इससे पहले 2004 में ब्रायन लारा ने इंग्लैंड के खिलाफ 400 रनों की पारी खेली थी। सैम नॉर्थईस्ट ने 447 गेंदों पर अपने 400 रन पूरे किए। उन्होंने 450 गेंदों पर 410 रनों की नाबाद पारी खेली। इस पारी में 45 चौके और 3 छक्के थे। ग्लेमोर्गन ने अपनी पारी 5 विकेट पर 795 रनों पर घोषित कर दी। नॉर्थईस्ट ने क्रिस कुक (191*) के साथ 461 रनों की नाबाद साझेदारी बनाई।
 
इस सदी की सबसे बड़ी पारी

इस सदी की फर्स्ट क्लास क्रिकेट में यह सबसे बड़ी पारी भी है। उन्होंने ब्रायन लारा के 400 रन का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। लारा के अलावा इस सदी में किसी भी बल्लेबाज ने 400 का स्कोर नहीं बनाया है। 2007 में फर्स्ट क्लास डेब्यू करने वाले 31 साल के नॉर्थईस्ट ने अभी तक 192 मैच खेले हैं। जिसमें उनके नाम 11966 रन हैं। उनके बल्ले से 27 शतक और 61 अर्धशतक निकले हैं। इस मैच से पहले उनकी सबसे बड़ी पारी 191 रनों की ही थी।

 

11वीं बार बना 400+ का स्कोर
फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 11वीं बार किसी बल्लेबाज ने 400+ का स्कोर बनाया है। ऑस्ट्रेलिया के विल पोंस्फोर्ड और वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा ने दो बार 400 से ज्यादा रनों की पारी खेली है। अभी तक सिर्फ एक भारतीय बल्लेबाज ने 400 से ज्यादा रनों की पारी खेली है। 1948 में महाराष्ट्र के भाऊसाहेब निंबालकरी ने काठियावाड़ के खिलाफ रणजी ट्रॉफी में नाबाद 443 रन बनाए थे। सबसे बड़ी 501 रनों की पारी खेलने का रिकॉर्ड ब्रायन लारा के नाम है। उन्होंने 1994 में वारविकशायर के लिए डरहम के खिलाफ यह पारी खेली थी।