बरेली
बरेली में चार दिनाें पहले क्यारा ब्लाक के बीआरसी पर एबीएसए के कहने पर बाबुओं के प्रधानाध्यापकों से रिश्वत लेकर आडिट करने का वीडियो वायरल हुआ था। एडी बेसिक ने मामले को गंभीरता से लिया और जांच करने बीआरसी पहुंचे। एडी बेसिक के आने की सूचना पर एबीएसए ने पहले से ही शिक्षक नेताओं को अपना समर्थन करने के लिए बुला लिया। एडी बेसिक के प्रश्नों को बार-बार टालते हुए नेता एबीएसए की तारीफ के राग अलापते रहे।

क्यारा ब्लाक पर आडिट के नाम पर रिश्वतखोरी के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। बीआरसी पर रिश्वतखोरी के मामले की जांच करने के लिए पहुंचे एडी बेसिक की खातिरदारी करने में एबीएसए मनोज राम, प्राथमिक शिक्षक संघ के मंडल मीडिया प्रभारी रोहित सिंह और पूर्व माध्यमिक शिक्षक संघ के ब्लाक मंत्री संजीव कुमार ने कोई कसर नहीं छोड़ी।

मामले के संबंध में एडी बेसिक कोई सवाल करते, उससे पहले शिक्षक नेताओं ने एबीएसए की तारीफ में पुल बांधने शुरू कर दिए। कुछ देर बाद फटकार लगाकर एडी बेसिक ने उन्हें शांत कराया। बीआरसी पर प्रधानाध्यापकों से रिश्वत लेने के मामले में जब-जब एडी बेसिक ने नेताओं से उनका पक्ष रखने के लिए कहा तो दोनों संगठनों के नेता ने एक सुर में कहा कि किसी तरह का कोई भ्रष्ट्राचार नहीं हो रहा, सिर्फ ब्लाक को बदनाम करने की साजिश की जा रही है।

आरोपित लिपिक बोले, कोल्ड ड्रिंक मंगाने के लिए जुटाए थे रुपये
वायरल वीडियो में प्रधानाध्यापकों से हाथों में सीधा रुपये न देकर एसएमसी रजिस्टर में रखकर देने की साफ बात कही जा रही है। इस बात को झुठलाते हुए लिपिक रोबिन ने एडी बेसिक को प्रधानाध्यापकों से कोल्ड ड्रिंक मंगाने के लिए रुपये जुटाने का बयान दिया। एडी बेसिक गिरवर सिंह का कहना है कि मामले की जांच चल रही है। इस शिकायत को महानिदेशक को भेजने की तैयारी है।