सैन फ्रांसिस्को
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने अमेरिका में टी20 प्रारुप में खेले जाने वाले मेजर लीग क्रिकेट (एमएलसी) को आधिकारिक ‘लिस्ट-ए’ का दर्जा प्रदान किया है।

एमएलसी का दूसरा सत्र पांच जुलाई से शुरू होगा होगा। इसका उद्देश्य खेल के सबसे बड़े बाजारों में से एक में इसकी लोकप्रियता को बढ़ावा देना है। आईसीसी के इस कदम से एमएलसी को आधिकारिक टी20 लीग और अमेरिका के पहले विश्व स्तरीय घरेलू टूर्नामेंट का दर्जा मिल गया।

अमेरिका एक जून से 29 जून तक खेले जाने वाले टी20 विश्व कप का सह-मेजबान है और एमएलसी का आयोजन विश्व कप के खत्म होने के एक सप्ताह के अंदर शुरू होगा।

एमएलसी से जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक, ‘‘अब हर शतक, अर्धशतक, रन-आउट, जीत, हार और चैंपियनशिप को खेल के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त प्रारूप में आधिकारिक करियर आंकड़ों के रूप में दर्ज किया जाएगा।’’

एमएलसी को आधिकारिक दर्जा मिलने का मतलब है कि यह अमेरिका के स्थानीय खिलाड़ियों और खेल के उभरते सितारों को अंतरराष्ट्रीय पहचान का अवसर प्रदान करेगा। इससे देश में घरेलू प्रतिभा के विकास को बढ़ावा मिलेगा।

इस बयान के मुताबिक, ‘‘एमएलसी को शुरूआती सत्र की सफलता के बाद लिस्ट ए का दर्जा मिल रहा है। यह अमेरिका में शीर्ष स्तर के क्रिकेट के आयोजन को लेकर हमारे अटूट समर्पण को रेखांकित करता है।’’

इस लीग के पहले सत्र में 19 मैच खेले गये थे लेकिन एमएलसी के सीईओ विजय श्रीनिवासन ने हाल ही में कहा कि 2025 से इसमें 34 मुकाबले खेले जायेंगे।

श्रीनिवासन ने कहा, ‘‘हमने पिछले साल मेजर लीग क्रिकेट के शुरुआती सत्र के बाद पूरे अमेरिका में क्रिकेट की लोकप्रियता को महसूस किया। अब बहुप्रतीक्षित आईसीसी टी20 विश्व कप और एमएलसी के दूसरे सत्र को लेकर रोमांच लगातार बढ़ रहा है।’’

यूएसए क्रिकेट से मान्यता प्राप्त एमएलसी में न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया सहित पूरी दुनिया के क्रिकेटर भाग लेते हैं।

इसके शुरुआती सत्र में छह टीमों लॉस एंजिल्स नाइट राइडर्स, एमआई न्यूयॉर्क, सैन फ्रांसिस्को यूनिकॉर्न, सिएटल ऑर्कास, टेक्सास सुपर किंग्स और वाशिंगटन फ्रीडम ने भाग लिया था।