भोपाल
 भोपाल-जबलपुर राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 12 पर भोपाल और मंडीदीप के बीच कलियासोत पुल के पास सड़क बहने की घटना को सरकार ने गंभीरता से लेते हुए इंजीनियर एसपी दुबे को निलंबित कर दिया। साथ ही सड़क की गुणवत्ता का काम देखने वाली थीम इंजीनियरिंग कंपनी को ब्लैक लिस्ट कर दिया है। वहीं, निर्माण एजेंसी सीडीएस इंडिया प्राइवेट लिमिटेड नई दिल्ली को ब्लैक लिस्ट करने की कार्रवाई की जा रही है।

तत्कालीन जिला प्रबंधक पवन अरोड़ा और सेवानिवृत्त सहायक महाप्रबंधक डीके जैन के विरुद्ध विभागीय जांच प्रारंभ कर दी है। प्रमुख सचिव लोक निर्माण नीरज मंडलोई ने संपूर्ण मार्ग पर निर्मित संरचना की जांच आइआइटी रुड़की से दो माह में कराने के निर्देश दिए हैं। मध्य प्रदेश सड़क विकास निगम ने सुरक्षा की दृष्टि से कटाव स्थल पर भराव का काम प्रारंभ कर दिया है।

 

घटना सामने आने के बाद लोक निर्माण के मंत्री गोपाल भार्गव ने विभागीय अधिकारियों को समीक्षा करके दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। राष्ट्रीय राजमार्ग एवं परिवहन मंत्रालय के क्षेत्रीय अधिकारी के साथ निगम के प्रबंध संचालक शशांक मिश्रा और वरिष्ठ अधिकारियों ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। इसके बाद आठ लेन सड़क में दुर्घटनाग्रस्त दो सर्विस लेन और दो मुख्य लेन का यातायात पर प्रतिबंध लगा दिया गया।

मंत्रालय में प्रमुख सचिव नीरज मंडलोई ने मध्य प्रदेश सड़क विकास निगम के अधिकारियों के साथ बैठक की। इसमें अधिकारियों ने बताया गया कि कुछ दिनों से लगातार हो रही वर्षा के कारण 24 जुलाई की रात कलियासोत बांध के गेट खोले जाने से पानी के अप्रत्याशित बहाव के फलस्वरूप कलियासोत नदी पर बने वृहद पुल की अप्रोच रोड किनारे बनाई गई सुरक्षा दीवाल खि‍सकने से गिर गई।

इससे एक तरफ की सर्विस लेन पर कटाव हो गया। पुल को कोई क्षति नहीं हुई। मंडलोई ने बताया कि निर्माण की गुणवत्ता देखने वाली सलाहकार संस्था को ब्लैक लिस्ट किया गया है। उसके द्वारा पिछले पांच साल में किए गए कार्यों का तकनीकी आडिट भी कराया जाएगा। निर्माण एजेंसी ही नए सिरे से सुरक्षा दीवार बनाएगी और इसका पूरा व्यय भार उसे ही उठाना होगा।