नई दिल्ली
महाठग सुकेश चंद्रशेखर से जुड़े मामले में एक बार फिर बड़ी जानकारी सामने आई है. दिल्ली पुलिस आर्थिक अपराध शाखा ने रोहिणी जेल के 82 अधिकारी-कर्मचारियों के खिलाफ FIR दर्ज की है. जेल स्टाफ पर आरोप है कि ये लोग सुकेश चंद्र शेखर से करीब 1.5 करोड़ रुपए प्रतिमाह रिश्वत के तौर पर लेते थे. आरोप है कि सुकेश अलग से बैरक उपलब्ध करवाने और जेल में मोबाइल फोन यूज करने समेत अन्य सुविधाएं मुहैया करवाने के नाम पर ये रकम अफसरों को देता था. इस मामले में 15 जून को FIR दर्ज हुई है.

बता दें कि फोर्टिस हेल्थकेयर के पूर्व प्रवर्तक शिविंदर मोहन सिंह की पत्नी अदिति सिंह समेत कुछ अमीर लोगों को ठगने के आरोपी सुकेश चंद्रशेखर रोहिणी की जेल नंबर 10 में वार्ड नंबर 3 के बैरक नंबर 204 में बंद था. इस दौरान उसे किसी न किसी तरीके से मदद देने के आरोप में 7 जेल कर्मियों को पहले ही गिरफ्तार किया गया था.

इससे पहले सुकेश चंद्रशेखर ने दिल्ली के तिहाड़ जेल में रहकर 200 करोड़ रुपए की ठगी की घटनाओं को अंजाम दिया था. सुकेश ने जेल से ही गृह मंत्रालय का अफसर बनकर ठगी की थी. उसने आवाज बदलकर लोगों को झांसे में लिया था. आरोप है कि सुकेश ने जेल अधिकारियों को लाखों रुपए की रिश्वत देकर मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया था. जांच के बाद कई जेल अधिकारी गिरफ्तार हुए थे.

हाल ही में सुकेश चंद्रशेखर को जेल की सुरक्षा व्यवस्था में सेंध लगाते पकड़ा गया है. सुकेश जेल के बाहर मैसेज भिजवाते सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ है. आरोपी तिहाड़ जेल के नर्सिंग स्टाफ को एक लेटर देकर बाहर भेज रहा था. जेल प्रशासन का कहना है कि सुकेश अपने मैसेज को इधर से उधर करवाता था. मामले में तिहाड़ जेल प्रशासन ने दिल्ली पुलिस को आरोपी नर्सिंग स्टाफ के खिलाफ कार्रवाई के लिए पत्र लिखा है.

दरअसल, सीसीटीवी रिकॉर्डिंग चेक करने के दौरान अधिकारियों ने पाया कि जेल के अस्पताल में कॉन्क्ट्रेट पर काम करने आई एक नर्सिंग स्टाफ से सुकेश बात कर रहा है और उसे अपना एक लैटर दे रहा है. बताते हैं कि ये लैटर नर्सिंग स्टाफ को सुकेश के किसी जानकार को बाहर जाकर देना था. नर्सिंग स्टाफ से जब पूछा गया तो वो संतोषजनक जवाब नहीं दे पाई. फिलहाल, तिहाड़ के अधिकारियों ने इसकी जांच के लिए दिल्ली पुलिस से संपर्क किया है. अब पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है. सुकेश चंद्रशेखर तिहाड़ की जेल नंबर 3 में बंद है. वह कभी भूख हड़ताल तो कभी सुरक्षा व्यवस्था से खिलवाड़ करके तिहाड़ अधिकारियों के नाक में दम करता रहता है.

करीबियों को लेटर भेजते पकड़ा गया

हाल ही में सुकेश चंद्रशेखर को जेल की सुरक्षा व्यवस्था में सेंध लगाते पकड़ा गया है. सुकेश जेल के बाहर मैसेज भिजवाते सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ है. आरोपी तिहाड़ जेल के नर्सिंग स्टाफ को एक लेटर देकर बाहर भेज रहा था. जेल प्रशासन का कहना है कि सुकेश अपने मैसेज को इधर से उधर करवाता था. मामले में तिहाड़ जेल प्रशासन ने दिल्ली पुलिस को आरोपी नर्सिंग स्टाफ के खिलाफ कार्रवाई के लिए पत्र लिखा है.

जेल में चर्चा में बना रहता सुकेश

दरअसल, सीसीटीवी रिकॉर्डिंग चेक करने के दौरान अधिकारियों ने पाया कि जेल के अस्पताल में कॉन्क्ट्रेट पर काम करने आई एक नर्सिंग स्टाफ से सुकेश बात कर रहा है और उसे अपना एक लैटर दे रहा है. बताते हैं कि ये लैटर नर्सिंग स्टाफ को सुकेश के किसी जानकार को बाहर जाकर देना था. नर्सिंग स्टाफ से जब पूछा गया तो वो संतोषजनक जवाब नहीं दे पाई. फिलहाल, तिहाड़ के अधिकारियों ने इसकी जांच के लिए दिल्ली पुलिस से संपर्क किया है. अब पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है. सुकेश चंद्रशेखर तिहाड़ की जेल नंबर 3 में बंद है. वह कभी भूख हड़ताल तो कभी सुरक्षा व्यवस्था से खिलवाड़ करके तिहाड़ अधिकारियों के नाक में दम करता रहता है.Live TV

करोड़पति बनने के सपने देखता था सुकेश

कर्नाटक के बेंगलुरु में एक मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मा सुकेश हमेशा अपने जीवन में करोड़पति बनने का सपना देखता था और अपने सपने को साकार करने के लिए उसने ठगी के जरिए पैसा कमाने की ठानी। उसने 17 साल की उम्र से लोगों को ठगना शुरू कर दिया था। 2007 में उसने नौकरी दिलाने के बहाने करीब 100 लोगों से 75 करोड़ रुपए ठगे थे। उस समय उसने खुद को एक बड़े नौकरशाह के रूप में पेश किया। कई सालों के बाद उसने राजनेता टीटीवी दिनाकरण को 50 करोड़ रुपए का चूना भी लगाया।