भोपाल
नगर निगम भोपाल से वार्ड नंबर 45 के निर्दलीय पार्षद रहे मोनू गोहल ने आरोप लगाया है कि भाजपा नेताओं द्वारा होने जा रहे मतगणना में धांधली और मनमानी करने के लिए विरोधियों पर झूठा प्रकरण दर्ज कराया जा रहा है उन्होंने बताया कि उनकी पत्नी शिखा गोहल वार्ड 45 से पार्षद पद हेतु भाजपा की टिकट मांगी थी, किंतु टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ी ।मतदान के दिन तक भाजपा के कई नेता मैदान से हटने के लिए उन्हें डराते धमकाते रहे किंतु वे अंत तक चुनाव मैदान में डटे रहे और पूरी ताकत के साथ चुनाव लड़ा। मतदान के दिन अंकुर स्कूल मतदान केंद्र में भाजपा प्रत्याशी के समर्थकों द्वारा फर्जी मतदान का प्रयास किया गया किंतु मेरे समर्थकों द्वारा इसे पूरी ताकत के साथ रोका गया और उसका वीडियो भी बनाया गया ।
विरोध करने के बाद फर्जी मतदान करा रहे लोग फॉर्च्यूनर गाड़ी में सवार होकर भाग गए। लेकिन पुलिस ने उनके ऊपर कारवाई करने के स्थान पर भाजपा नेताओं के दबाव में मेरे और मेरे दो समर्थकों के विरुद्ध हबीबगंज थाने में अपराधिक प्रकरण दर्ज कर लिया । मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि ऐसा इसलिए किया गया है ताकि मुझे और मेरे समर्थकों को मतगणना के कार्य से पृथक रखा जा सके और भाजपा के समर्थक अपनी मनमानी और धांधली करके चुनाव परिणाम को प्रभावित कर सके। उन्होंने पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की है।