ग्वालियर
 ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Energy Minister Pradyuman Singh Tomar) ने कहा है कि मेंटेनेंस के पांच दिन बाद यदि फिर बिजली ट्रिपिंग (Power Tripping) होती है तो संबंधित अधिकारियों को नोटिस जारी कर इसका कारण पूछें। ऊर्जा मंत्री ने यह निर्देश ग्वालियर और चंबल संभाग के जिलों की समीक्षा के दौरान दिये। तोमर ने भोपाल से वीडियो काफ्रेंसिंग से विभागीय कार्यों की समीक्षा की।

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि बिजली उपभोक्ताओं की शिकायत पर बिजली सुधारने के लिए जाने वाली टीम की गाड़ी की अच्छी कंडीशन हो। साथ ही उसमें जरूरी उपकरण भी रहने चाहिये।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि बिजली लाइन और ट्रांसफॉर्मरों का मेंटेनेंस (Transformer Maintenance) युद्ध स्तर पर करें। इसमें पेड़ की टहनियों और झाड़ियों  के कारण होने वाली ट्रिपिंग रोकी जा सकेगी। मेंटेनेंस कार्य का निरीक्षण डिविजनल इंजीनियर द्वारा नियमित रूप से किया जाए। उन्होंने कहा कि सामग्री की कोई कमी हो तो मुझे बतायें। मेंटेनेंस की एंट्री गूगल शीट में भी करें।

मंत्री श्री तोमर ने खंबों में बिजली फाल्ट सुधारने के लिए ग्वालियर (Gwalior News) को एक हाइड्रा उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। उन्होंने हेल्प डेस्क में आने वाली शिकायतों का त्वरित निराकरण करने के निर्देश दिए। मंत्री ने कहा कि उपभोक्ताओं के फोन तुरन्त उठायें। उन्होंने कहा कि गैर विद्युतीकृत कॉलोनियों में विद्युतीकरण के लिए प्राक्कलन बनायें। स्वीकृत कार्यो को जल्द शुरू करें। कार्यों में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें।